लखनऊ: एक लाख के इनामी और घोषित भगोड़े सस्पेंड एसपी मणिलाल पाटीदार के गुजरात के वडोदरा में छिपे होने की सूचना मिली है. जिसके बाद यूपी एसटीएफ की दो टीमें बडोदरा के लिए रवाना हो चुकी हैं. इससे पूर्व राजस्थान के डुंगरपुर स्थिति निजी आवास और अहमदाबाद गई यूपी एसटीएफ सहित तीन टीमें खाली हाथ लौट चुकी हैं. पिछले पांच महीने से मणिलाल पाटीदार यूपी पुलिस को छका रहा है. उस पर 50 हजार से इनाम बढ़ा कर एक लाख कर दिया गया हैं. यूपी STF, महोबा पुलिस के अलावा विजिलेंस और ईडी को भी उनकी तलाश है.
दो टीमें वड़ोदरा हुईं रवाना
मणिलाल पाटीदार की गिरफ्तारी के लिए यूपी एसटीएफ टीम और चित्रकूटधाम मंडल से एक-एक इंस्पेक्टर की अगुवाई में दो टीमें राजस्थान के डुंगरपुर स्थिति उसके आवास गई थीं. वहां परिवारीजनों से पूछताछ में कुछ हाथ नहीं लगा. उसके खास रिश्तेदार के अहमदाबाद में होने और वहां मणिलाल के कुछ दिन ठहरने की सूचना पर तीनों टीमें वहां भी गईं, लेकिन खाली हाथ लौटीं. अब इनपुट मिला है कि मणिलाल गुजरात के वडोदरा भी गया था, इस पर टीमें वडोदरा के लिए रवाना हो गई हैं. वडोदरा में मणिलाल का एक करीबी रहता है, यहां से उसके बारे में कुछ सुराग मिलने की संभावना है.
की जाएगी संपत्ति कुर्क
नौ सितंबर 2020 से ही निलंबित चल रहे साल 2014 बैच के IPS मणिलाल पाटीदार की संपति कुर्की का नोटिस पुलिस ने तामीला कर दिया है. यह नोटिस पाटीदार के डूंगरपुर (राजस्थान) जिले के सगवाड़ा थाना क्षेत्र में सरौंदा गांव स्थित पैतृक घर पर भी चस्पा किया गया है. इसके बाद अब कुर्की की जाएगी.
यूपी STF प्रभारी अनिल सिसौदिया ने दी जानकारी
यूपी STF प्रभारी अनिल सिसौदिया के मुताबिक, टीमें तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार की तलाश में पहले राजस्थान गई थीं. इसके बाद टीमें अहमदाबाद पहुंचीं. दोनों जगह कोई खास कामयाबी नहीं मिली. टीम अब वडोदरा के रवाना हो रही हैं, यहां से अहम सुराग मिलने की उम्मीद है.
विजिलेंस और ईडी की जांच थमी
शासन के आदेश पर विजिलेंस पाटीदार के विरुद्ध भ्रष्टाचार के आरोपों एवं आय से अधिक संपत्ति की जांच कर रही है. उसने पाटीदार की तैनाती वाले जिलों से जानकारियां तो जुटी ली हैं, लेकिन पूछताछ न हो पाने से जांच आगे नहीं बढ़ पा रही है. इसी तरह प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की मनी लांड्रिंग के आरोपों से संबंधित जांच भी रुकी हुई है.
ये है पूरा मामला
महोबा के क्रेशर कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी को पिछले साल आठ सितंबर को संदिग्ध परिस्थतियों में लगी गोली और फिर 13 सितंबर को मौत के मामले में तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार के अलावा थानेदार देवेंद्र शुक्ला, दो व्यापारी ब्रह्मानंद, नरेश सोनी और सिपाही अरुण यादव आरोपित हैं. तत्कालीन एसपी को छोड़ सभी जेल में हैं. अब तक सस्पेंड एसपी का पता नहीं चल सका है. सस्पेंड किए जाने के साथ ही उनका लुकआउट नोटिस भी जारी हो चुका है. यहां तक उसे एक लाख का इनामिया भगोड़ा घोषित किया जा चुका है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.