कानपुर देहात। बिकरू कांड के बाद मोस्टवांटेड विकास दुबे और उसके पांच साथियों के एनकाउंटर के बाद पुलिस अब बाकी फरार गुर्गों की तलाश में जुटी है। मोस्टवांटेड का पोस्टर पहले ही जारी करने के बाद पुलिस ने अब कानपुर देहात और ग्रामीण क्षेत्रों में इनामी होर्डिंग लगवा दी हैं। कानपुर देहात के रसूलाबाद क्षेत्र में कई जगह लगी होर्डिंग में सूचना देने वालों को 50 हजार का इनाम देने की बात कही गई है।

बिकरू कांड में शामिल प्रमुख आरोपित जिनका हुआ एनकाउंटर

विकास दुबे : उज्जैन में गिरफ्तारी के बाद कानपुर लाते समय गाड़ी पलटने पर भागते समय एनकाउंटर में पुलिस ने मारा।

प्रेम शंकर पांडेय : विकास दुबे का मामा। घटना के दूसरे दिन एसटीएफ ने बिकरू से करीब पांच किमी दूर काशीराम नेवादा के जंगल में एनकाउंटर में मारा।

अतुल दुबे : विकास दुबे का चचेरा भाई और सबसे विश्वसनीय साथी था। एसटीएफ ने दूसरे दिन ही काशीराम नेवादा के जंगल में एनकाउंटर में मारा।

अमर दुबे : अतुल दुबे के भाई संजू दुबे का बेटा। विकास का सुरक्षा गार्ड और रिश्ते में भतीजा। हमीरपुर में मुठभेड़ में ढेर।

प्रभात मिश्रा : विकास दुबे का पड़ोसी और पनकी के पास मुठभेड़ में मारा गया।

प्रवीण उर्फ बउआ दुबे : बिकरू निवासी विकास का शूटर बउआ उर्फ प्रवीण इटावा में मुठभेड़ में ढेर हुआ।

अबतक ये हुए गिरफ्तार

दयाशंकर अग्निहोत्री: विकास का नौकर। कल्याणपुर में हुई मुठभेड़ में पैर में गोली लगी।

संजू दुबे : मुठभेड़ में मारे गए अमर दुबे का पिता और विकास का चचेरा भाई।

शांति देवी : हमले में नामजद हीरू दुबे की मां।

खुशी: मुठभेड़ में मारे गए अमर दुबे नवविवाहिता पत्नी

क्षमा दुबे : मुठभेड़ में मारे गए अमर दुबे की मां।

श्यामू बाजपेयी : पड़ोसी। मुठभेड़ में लगी गोली

जहान यादव : बिकरू निवासी और विकास का शार्प शूटर।

राहुल पाल : जेसीबी चालक, जो रात में पुलिस को रोकने के लिए रास्ते में खड़ी की गई थी।

शशिकांत पांडेय : मुठभेड़ में मारे प्रेमप्रकाश का पुत्र।

इनकी है पुलिस को तलाश

कानपुर देहात में रसूलाबाद के आजाद चौक, सुभाष चौक, थाना परिसर, तहसील सहित अन्य स्थानों पर लगवाई गई होर्डिंग में आरोपित विष्णुपाल सिंह, रामनरेश नागर, मनोज, चंद्रजीत, संतोष कुमार, रणवीर सिंह, लालाराम, अजीत कुमार, इंद्रजीत, सत्यम उर्फ लुट्टन, नाहर सिंह उर्फ धर्मेंद्र, हीरू तिवारी व बड़े उर्फ बालगोविंद की फोटो हैं। विकास दुबे, अमर दुबे व मुठभेड़ में मारे गए अन्य आरोपितों की भी फोटो हैं लेकिन उनके फोटो पर कट का निशान लगा है। होर्डिंग में एसपी देहात, सीओ व थाना प्रभारी के मोबाइल नंबर पर सूचना देने की अपील कर 50 हजार रुपये का इनाम देने की बात कही गई है। सीओ रामशरण सिंह ने बताया कि भीड़भाड़ वाली जगहों पर होर्डिंग लगवाई गई है ताकि लोग इन्हें ठीक से पहचान सकें। सूचना देने वाले की पहचान गोपनीय रखी जाएगी।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.