लखनऊ। राजधानी लखनऊ में ‘मित्र पुलिस’ दावा करने वाले कुछ वर्दीधारियों पर आशिकी का भूत सवार हो गया है। आशिक मिजाज ये पुलिस पुलिसकर्मी महकमें को शर्मसार करने पर आमदा हैं। ताजा मामला एक बार फिर हजरतगंज इलाके का सामने आया है। पिछले महीने सुल्तानगंज चौकी पर तैनात सिपाही राहुल की आशिक मिजाजी के चलते लॉक डाउन में पति पत्नी अलग अलग हो गए थे। ये मामला अभी लोग भूल भी नहीं पाए थे कि हजरतगंज कोतवाली में स्थित साइबर क्राइम सेल के प्रभारी पर ऐसी आशिक मिजाजी चढ़ी कि उन्हें उनकी पत्नी ने कार्यालय में ही चप्पल से पीट दिया। इससे पहले भी इश्क के बुखार में किसी वर्दीधारी ने मासूम को मरवा दिया तो किसी ने फरियाद सुनने के बहाने या फिर हाथ पर आई लव यू लिखकर महकमे को बदनाम करने की कोशिश की। कभी कानून-व्यवस्था के लिए चुनौती बने अपराधियों को सलाखों के पीछे भेजने वाले पुलिसवाले वर्दी का लिहाज खत्म कर वह अब खुद पुलिस के लिए चुनौती बन गये हैं। इस मामले के बारे में जाँच अधिकारी विवेक रंजन राय ने पहले तो मामला विभागीय होने के चलते टरकाने की कोशिश की लेकिन घटना मीडिया में आने के बाद उन्होंने घरेलू कलह मामला बताकर एक से दो दिन में जाँच उच्च अधिकारियों को सौंपने की बात कही है। सिपाही की इस करतूत के बारे में जब डीजीपी मध्य से बात की गई तो उन्होंने बताया कि मामला जानकारी में नहीं है। मामले के बारे में जाँच कराई जाएगी। अगर आरोप सत्य हुए तो सिपाही के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

पुलिस महकमे में यूं तो आशिक मिजाजी के कई किस्से चर्चा में रहे हैं। आशिकी भी एक पुलिसकर्मी ने मासूम का कत्ल तक करवा दिया था फिर भी खाकी के कारिंदे अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। ताजा आशिक मिजाजी का मामला हजरतगंज कोतवाली के साइबर क्राईम सेल में तैनात प्रभारी राहुल सिंह राठौर का है। राहुल की शादी को 20 साल हो चुके हैं।उनके परिवार में पत्नी, बेटी और बेटा भी है। लेकिन दरोगा जी पर प्यार का ऐसा भूत सवार है कि वह काफी दिनों से मौज मस्ती कर रहे हैं। कहा जाता है कि प्यार छुपाए नहीं छुपता। पत्नी को जब इस बात की भनक लगी तो मायके तक मामला पहुंचा। दरोगा के खिलाफ पत्नी की मां भी हो गई। पानी सिर से ऊपर चला गया तो नाराज होकर पत्नी दरोगा जी के कार्यालय पहुंची फिर क्या था। कार्यालय में ही पत्नी ने दरोगा जी को चप्पलों से पीटना शुरू कर दिया। इसके बाद महबूबा ने जो तोहफे में सोने की चेन दरोगा जी को दी थी वह भी लेकर पत्नी चलती बनी। राहुल राठौर काफी चर्चा में रहते हैं। उन्होंने कई अपराधियों को दबोच कर सलाखों के पीछे भी भेजा। लेकिन पत्नी के आगे उनकी कहां चलने वाली थी। बेघर होने पर इन दिनों दरोगा जी कोतवाली परिसर में ही बने क्वार्टर में रह रहे हैं। उनके सामने आने पर हर पुलिसकर्मी के आगे मई के पहले सप्ताह का वह मंजर याद आता है जब उनके पीटने पर सहकर्मी ऑफिस छोड़कर भागे थे। वह ये लोग थे जो उनके बड़े खास थे। जनाब की एक युवती से दोस्ती ऐसी हुई कि प्यार हो गया और यह बात पत्नी को नागवार गुजरी। पत्नी की मां ने फेसबुक पर लोगों से बेटे की करतूत उजागर कर डाली। उन्होंने बेटे के सुधरने के लिए करीबियों से भी मदद मांगी। देखने वाली बात यह होगी कि दरोगा जी पर ।आशिकी का भूत चढ़ा रहेगा या फिर उतर जाएगा यह तो वक्त ही बताएगा।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.