भदोही में रविवार की सुबह दर्दनाक वारदात हो गई। पति से झगड़े के बाद पत्नी ने अपने पांच बच्चों को गंगा में फेंक दिया। बच्चों की उम्र पांच से 12 साल के बीच है। गोपीगंज के जहांगीरा गंगा घाट पर हुई घटना का पता चलते ही हड़कंप मच गया। स्थानीय पुलिस के साथ ही आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए। गोताखोरों की टीम बच्चों  को खोजने में जुटी हुई है। बताया जा रहा है कि मां ने छह साल से छोटे दो बच्चों को पहले गंगा में फेंका। उन्हें बचाने के लिए अन्य तीनों बच्चे उतरे और पांचों डूब गए।

जहांगीरा गांव निवासी मृदुल उर्फ मुन्ना इलाके के एक सराफ के यहां काम करता है। दो दिन पहले वह किसी की गाड़ी लेकर पास बनवाने के बाद झारखंड गया था। रविवार की सुबह घर पहुंचा तो पत्नी मंजू से घर के खर्चे  को लेकर झगड़ा शुरू हो गया। कुछ देर बाद ही पत्नी ने अपने पांचों बच्चों को साथ लिया और गंगा किनारे पहुंच गई।

यहां उसने अपने सबसे छोटे बेटे पांच वर्षीय संदीप को अचानक गंगा में फेंक दिया। इससे पहले कि अन्य बच्चे कुछ समझते मां ने छह वर्षीय बेटी पूजा को भी गंगा में ढकेल दिया। दोनों डूबने लगे तो 12 वर्षीय बेटी वंदना, दस वर्षीय बेटी रंजना और आठ वर्षीय बेटा शिवशंकर बचाने के लिए गंगा में उतरे। पानी गहरा होने के कारण यह तीनों बच्चे भी डूबने लगे।

बच्चों को डूबता देख आसपास के कुछ लोग दौड़े लेकिन तब तक पांचों गंगा में समा चुके थे। तत्काल घटना की जानकारी पुलिस को दी गई। पांच बच्चों के डूबने की खबर लगते ही हड़कंप मच गया। जिलाधिकारी राजेंद्र प्रसाद और एसपी राम बदन सिंह भी मौके पर पहुंच गए। तत्काल गोताखोरों को बुलाकर तलाश शुरू कराई गई। करीब दो घंटे बाद भी बच्चों का कुछ पता नहीं चल सका था।

डीएम के अनुसार महिला का कहना है कि पति से झगड़े के बाद गुस्से में उसने पांचों बच्चों को गंगा में ढकेल दिया है। कुछ लोग महिला की मानसिक हालत ठीक नहीं बता रहे हैं। जबकि पति के अऩुसार उसकी मानसिक हालत ठीक थी। उसने क्यों ऐसा कदम उठा लिया, इस बारे में कुछ नहीं बता रहा है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.