स्टेट ब्यूरो
लखनऊ। राजधानी में मुख्यमंत्री आवास से चंद कदम की दूरी पर दिनदहाड़े डबल मर्डर की बात जैसे ही लोगों को पता लगी गुस्से का गुबार फूट पडा। सोशल मीडिया पर कानून व्यवस्था को लेकर सवाल उठने लगे लेकिन जब सच सामने आया तो लोगों के होश उड़ गये। लखनऊ के गौतमपल्ली में मुख्यमंत्री आवास के पास रहने वाले रेलवे अधिकारी आरडी बाजपेयी की नेशनल शूटर बेटी ने अपनी मां व भाई की गोली मारकर हत्या कर दी। शनिवार को दिनदहाड़े हाई सिक्योरिटी जोन में दोहरी हत्या की सूचना पुलिस को मिली तो हड़कम्प मच गया। डीजीपी हितेश चन्द्र अवस्थी व पुलिस कमिश्नर सुजीत पाण्डेय ने मौके पर पहुंच कर जांच शुरू की।
शुरुआती पड़ताल में लोगों ने लूट के दौरान हत्या किए जाने की आशंका जताई। लेकिन, बंगले में मौजूद नाबालिग बेटी की हरकतों से शक होने पर पुलिस ने पूछताछ की तो दिल दहला देने वाला खुलासा हुआ। पता चला कि डिप्रेशन की शिकार बेटी ने ही कमरे में सो रही मां व भाई को मौत के घाट उतार दिया। पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया है। पुलिस कमिश्नर सुजीत पाण्डेय ने बताया कि आरडी बाजपेयी उत्तर रेलवे लखनऊ मंडल में वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक के पद पर तैनात थे। मौजूदा समय में वे दिल्ली में रेलवे बोर्ड के कार्यकारी निदेशक के पद पर कार्यरत हैं। यहां गौतमपल्ली में वीवीआईपी गेस्ट हाउस के सामने उनका सरकारी बंगला है। जहां उनकी पत्नी मालिनी (45), बेटा सर्वदत्त बाजपेयी (19) व बेटी रहते थे। शनिवार शाम करीब पौने चार बजे नौकरों ने मालिनी व सर्वदत्त के खून से लथपथ शव देख पुलिस कंट्रोल रूम पर सूचना दी।
दो घंटे तक चुप्प्पी साधे रही बेटी
पुलिस मौके पर पहुंची तो मालती व सर्वदत्त के शव बेड पर पड़े थे जबकि 16 वर्षीय बेटी दूसरे कमरे में बैठी थी। पुलिस ने उससे बात करने की बहुत कोशिश की लेकिन वह चुप्पी साधे रही। उस वक्त पुलिस अधिकारियों को लगा कि वह मां और भाई की हत्या से अवाक् है और दहशत में कुछ बोल नहीं पा रही है। लेकिन जैसे-जैसे जांच आगे बढ़ी पुलिस का शक बेटी पर गहराने लगा। लड़की की अजीब हरकतें देख पुलिस ने उसके कमरे की तलाशी ली तो मेज के नीचे से .22 बोर की पिस्टल बरामद हुई। पास में ही कारतूस का डिब्बा रखा था, जिसका ढक्कन खुला था।  पुलिस टीम कमरे से लगे हुए बॉथरूम में दाखिल हुई तो वॉश बेसिन के ऊपर लगे आईने पर लाल रंग से लिखा था ‘डिस क्वॉलीफाइड ह्यूमन’। साथ ही शीशे पर गोली के निशान भी थे। यह देख पुलिस वाले भी सकते में आ गए। इसके बाद डीसीपी उत्तरी शालिनी को बुलाया गया, जिन्होंने लड़की के नाना के सामने उससे पूछताछ शुरू की। डीसीपी के बहला कर पूछने पर लड़की ने मां व भाई की हत्या करने की बात कबूल ली। पुलिस कमिश्नर के मुताबिक रेलवे अधिकारी की नाबालिग बेटी नेशनल लेवल की शूटर है। उसके पास से .22 बोर की पिस्टल है, जिससे वह शूटिंग प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेती थी। जांच में सामने आया कि बेटी ने कुल पांच राउंड गोलियां चलाईं। इसमें से दो गोली मां मालिनी को मारी, जबकि एक गोली भाई सर्वदत्त के सिर में मारी। इसके अलावा दो गोलियां बॉथरूम के आईने पर चलाईं।  पुलिस कमिश्नर के मुताबिक लड़की की मानसिक हालत ठीक नहीं है। उसके हाथों पर घाव के कई निशान थे। पूछताछ में लड़की ने बताया कि उसने ब्लेड से अपने हाथों पर ये कट बनाए थे। उसके कमरे से ब्लेड का टुकड़ा भी बरामद हुआ है। उसे हिरासत में ले लिया गया है। मनोचिकित्सक को बुलाकर उसकी जांच करवाई जा रही है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.