उत्तर प्रदेश के संतकबीरनगर में एक परिवार के 19 सदस्य कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इस सूचना के बाद जिला प्रशासन अलर्ट पर है। डीएम ने मगहर में डेरा डाल दिया है। पूरे नगर पंचायत क्षेत्र को हॉटस्पॉट घोषित करते हुए सील कर दिया गया है।

27 मार्च को बड़ी संख्या में छात्र देवबंद से संतकबीरनगर आए थे। उनमें से 25 छात्रों के नमूने जांच के लिए मंगलवार को लिए गए थे। उनमें से एक मगहर के शेरपुर रेहरवा निवासी 23 वर्षीय असदुल्ला को कोरोना संक्रमित पाया गया था। संक्रमित छात्र के परिवार के 29 सदस्‍यों के नमूने गुरुवार को बीआरडी मेडिकल कॉलेज भेजे गए थे। शुक्रवार आधी रात के बाद आई जांच रिपोर्ट में 19 सदस्य संक्रमित पाए गए।

इस सूचना ने संतकबीरनगर प्रशासन और स्‍वास्‍थ्‍य विभाग में हड़कम्‍प मचा दिया। मंगलवार को संक्रमित पाए गए छात्र को कोरोना  इलाज की सुविधाओं से लैस दूसरे अस्‍पताल में शिफ्ट किया जा रहा है। पूरे अस्‍पताल को सैनेटाइज किया जा रहा है। इसके साथ ही मगहर नगर पंचायत को सील कर दिया गया है। प्रशासन ने कहा है कि छात्र और उसके परिवार के सम्‍पर्क में आए सभी लोगों के नमूनों की जांच की जाएगी। सभी संक्रमितों को अस्‍पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करा दिया गया है।

संतकबीरनगर बना गोरखपुर-बस्‍ती मंडल का दूसरा सबसे संवेदनशील जिला

इसी के साथ कोरोना संक्रमण के मामले में संतकबीरनगर, गोरखपुर-बस्‍ती मंडल में दूसरे नंबर का संवेदनशील जिला हो गया है। जबकि 14 अप्रैल तक वहां एक भी केस नहीं था। 14 अप्रैल को सेमरियावां ब्‍लाक के चोरहा गांव में एक संक्रमित मिला था और मंगलवार को देवबंद से लौटे एक अन्‍य छात्र के कोरोना संक्रमित होने की खबर आई। अब इसी छात्र के परिवार के 19 सदस्‍यों के संक्रमित पाए जाने के बाद संतकबीरनगर में कोरोना मरीजों की कुल संख्‍या 21 हो गई है। जबकि बगल के बस्‍ती जिले में 23 कोरोना संक्रमित मिले हैं। वहां के एक कोरोना संक्रमित हसनैन अली की 30 मार्च को मौत हो गई थी।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.