टीबी मरीजों की जांच के लिए बीआरडी मेडिकल कॉलेज में लगी सीबी नेट मशीन से कोरोना की जांच होगी। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने इसकी मंजूरी दे दी है। यह मशीन महज दो घंटे में चार नमूनों की रिपोर्ट देगी। इमरजेंसी में सैम्पल की जांच इसी से होगी। इस मशीन की खास बात यह है कि इससे जांच में ढेरों प्रोटोकॉल पालन करने की जरूरत नहीं होती है।

पूर्वी यूपी में टीबी मरीजों की संख्या को देखते हुए शासन ने बीआरडी मेडिकल कॉलेज में सीबी नेट मशीन लगा रखी है। यह मशीन टीबी के सामान्य बैक्टीरिया के साथ ही रजिस्टेंस बैक्टीरिया की पहचान करती है। इस मशीन को कोरोना सैम्पल की जांच के लिए आईसीएमआर ने कारगर पाया। सोमवार को आईसीएमआर ने ट्रायल की मंजूरी दी। मंगलवार को दो सैम्पल पर ट्रायल किया गया। जिसमें से एक कोरोना पॉजिटिव मरीज का नमूना था। ट्रायल पूरी तरह सफल रहा। आईसीएमआर को ट्रायल की रिपोर्ट भेज दी गई है।

दो दिन में विधिवत जांच

माइक्रोबायोलॉजी के विभागाध्यक्ष डॉ. अमरेश सिंह ने बताया कि ट्रायल की रिपोर्ट आईसीएमआर को भेज दी गई है। आईसीएमआर नए लैब के तौर पर इसे रजिस्टर्ड कर रही है। रजिस्ट्रेशन के बाद हमें आईडी और पासवर्ड मिल जाएगा। हम ऑनलाइन रिपोर्टिंग कर सकेंगे। जब ऑनलाइन रिपोर्ट देने की मंजूरी मिलेगी, तभी विधिवत जांच शुरू होगी। इस प्रक्रिया में दो दिन लग सकते हैं। यह मशीन हर दो घंटे में चार नमूनों की जांच कर सकती है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.