राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) की अखिल भारतीय कार्यकारिणी मंडल की तीन दिनों तक ठाणे के भयंदर में चलने वाली बैठक आज समाप्त हो गई है। इस बैठक के बाद संघ के सरकार्यवाह भैय्याजी जोशी ने राम मंदिर पर कोर्ट के फैसले में देरी हो रही है। जरुरत पड़ी तो राम मंदिर पर 1992 जैसा आंदोलन करेंगे।
संघ के सरकार्यवाह ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि हमें उम्मीद थी कि दिवाली से पहले राम मंदिर पर फैसला आ जाएगा लेकिन सुप्रीम कोर्ट के फैसले से हिंदुओं का अपमान हुआ है। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट हिंदुओं की भावानाओं को समझेगा और संवेदनशील मुद्दे जल्द सुलझाएगा।
भैय्याजी जोशी ने कहा कि राम मंदिर में कुछ कानूनी बाधाएं हैं, इस पर राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट प्राथमिकता से विचार करें। बता दें किभाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने वीरवार को रात दो बजे मुंबई के रामभाऊ महालगी प्रबोधनी में संघ प्रमुख मोहन भागवत से मुलाकात की थी। इस दौरान संघ प्रमुख और शाह के बीच कई अहम मुद्दों पर चर्चा हुई। माना जा रहा है कि राम मंदिर और लोकसभा चुनाव को लेकर चर्चा हुई है।
गौरतलब है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने बुधवार को अयोध्या में भव्य राम मंदिर के शीर्घ निर्माण के लिए अध्यादेश लाने या कानून बनाने की अपनी मांग को दोहराया था। आरएसएस के संयुक्त महासचिव मनमोहन वैद्य ने कहा था कि राम मंदिर का निर्माण राष्ट्रीय गौरव का विषय है और अभी तक अयोध्या विवाद का हल अदालतों में नहीं निकला है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.