सीतापुर। चेन्नई से सीतापुर तक 2147 किमी का लंबा सफर कर आई गर्भवती ने मंजिल पर दम तोड़ दिया। डीसीएम पर सवार कसमंडा के जयरामपुर के सनोज और उसकी गर्भवती पत्नी रोली घर लौट रहे थे। रास्ते में पत्नी की तबियत बिगड़ गई सुबह होने तक वे जिले में आ गए थे। डीसीएम ने उन्हें सीधे कमलापुर पीएचसी छोड़ा। प्रारंभिक उपचार के बाद डॉक्टरों ने उसे सीएचसी कमसमंडा रेफर किया। डॉक्टरों ने गर्भवती की हालत नाजुक देख उसे एंबुलेंस से जिला महिला अस्पताल भेजा। यहां गेट पर एंबुलेंस ठहरी और वहीं आकर डॉक्टरों उसकी नब्ज टटोली, बताया रोली मर चुकी है। सनोज की बड़ी बहन पूनम ने बताया, भाभी-भैया 13 मई को चेन्नई से डीसीएम से चले थे कंपनी मालिक ने डीसीएम से ही उसकी गर्भवती भाभी व भैया को भेज दिया। इसमें कुल 80 महिला-पुरुष श्रमिक थे। पूनम ने बताया, सनोज व रोली के साथ ही उसका बड़ा भाई मनोज व उसकी पत्नी संगीता भी चेन्नई की एक कंपनी में पत्थर काटने का काम करने गए थे। ये सब डीसीएम में सवार थे।
सैंपल ले पीएम हाउस में रखा शव
सीएमओ डॉ. आलोक वर्मा ने बताया, चेन्नई से आई गर्भवती की मौत हो गई है। कोरोना संक्रमण की जांच के लिए इसका सैंपल लिया गया है। रिपोर्ट आने के बाद ही इसके पोस्टमार्टम का निर्णय लिया जाएगा। यदि रिपोर्ट निगेटिव आती है तो पोस्टमार्टम के बाद शव उसके घर वालों को सौंप दिया जाएगा। फिलहाल गर्भवती के शव को पोस्टमार्टम हाउस में रखाया गया है।
खून की कमी, शरीर में सूजन
कसमंडा सीएचसी अधीक्षक डॉ. अरविंद बाजपेई ने बताया, गर्भवती रोली सुबह छह बजे के दौरान अस्पताल आई थी। उसके शरीर में खून की बहुत कमी थी पूरे शरीर में सूजन थी। क्रिटिकल केस होने से उसे रेफर किया था।

 

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.