लखनऊ: गाजियाबाद से सामने आए बुजुर्ग से मारपीट और अभ्रदता के केस में ट्विटर निशाना बनते दिख रहा है. दरअसल, गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर मनीश माहेशवरी को नोटिस भेज दिया है.
बताया जा रहा है कि गाजियाबाद पुलिस ने ट्विटर के जिम्मेदार अधिकारियों से जल्द पूछताछ की तैयारी कर ली है. गाजियाबाद पुलिस का कहना है कि जब मामले की सूचना समय रहते दे दी गई तो इसके बावजूद वीडियो के वायरल होने से माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ने क्यों नहीं रोका.
इन धाराओं में दर्ज हुई एफआईआर
गाजियाबाद पुलिस द्वारा जारी नोटिस में लिखा गया है कि, ट्विटर कम्यूनिकेशन इंडिया प्राइवेट लिमिटेज व ट्विटर आईएनसी के विरुद्ध थाना लोनी बोर्डर जनपद गाजियाबाद में धारा 153, 153 ए, 295 ए, 505, 120 बी, 34 के तहत एफआईआर दर्ज की गई.

नोटिस में आगे लिखा गया है ट्विटर आईएनसी के माध्यम से लोगों ने अपने ट्विटर हैंडल का इस्तेमाल कर समाज के बीच विद्वेष फैलाने वाले संदेश का किसा प्रकार कोई संज्ञान नहीं लिया गया. साथ ही देश/विदेश के  विभिन्न समूहों के बीच सौहार्द को प्रभावित करने वाले कार्य को बढ़ाया दिया गया. इसके अलावा, समाज विरोध संदेश को लगातार वायरल होने दिया गया.
पुलिस ने पूरे मामले में 3 लोगों की गिरफ्तारी
आपको बता दें, मामले की पुलिस जांच में सामने आया कि जिन लोगों ने घटना को अंजाम दिया वो पीड़िते के जानने वाले थे. पीड़ित ने उन्हें ताबीज बनाकर बेचे थे जिसका उन्होंने अच्छा नतीजा मिलने का आश्वासन दिया था. वहीं, जब उन लोगों के मन मुताबिक ताबीज का नतीजा नहीं मिला तो उन्होंने उसे पीट दिया. बता दें, पुलिस ने मामले में 3 लोगों को गिरफ्तार किया है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.