यूूपी में एक के बाद एक क्राइम होते जा रहे हैँ। कानपुर और गोरखपुर में अपहरण के बाद हुई हत्या की तरह एक जघन्य अपराध बुलंदशहर में हुआ है। यहां छह दिन से लापता वकील धर्मेंद्र चौधरी का शव एक फैक्ट्री से बरामद हुआ। वकील की रुपयों के विवाद में हत्या कर शव को गढ्ढे में दबा दिया गया था। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजते हुए कुछ लोगों को हिरासत में लिया है।

खुर्जा के मोहल्ला गुलशन विहार कॉलोनी निवासी अधिवक्ता धर्मेंद्र चौधरी 25 जुलाई को संदिग्ध अवस्था में लापता हो गए थे। सुचना पर पुलिस ने खोजबीन शुरू की तो उनकी बाइक क्षेत्र के गांव खबरा के जंगल से लावारिस हालत में मिली, लंकिन उनका सुराग नहीं मिला। आईजी ने भी खुर्जा पहुंचकर जानकारी ली थी। शुक्रवार देर रात पुलिस ने खुर्जा निवासी एक व्यापारी की टाइल्स फैक्ट्री में एक स्थान पर खुदाई कराकर अधिवक्ता का शव बरामद कर लिया। पुलिस के अनुसार अधिवक्ता का खुर्जा निवासी एक टाइल्स फैक्ट्री के संचालक के साथ रुपयों के लेनदेन को लेकर विवाद था। इसी विवाद के चलते अधिवक्ता को फैक्ट्री बुलाकर उसकी हत्या कर शव को गढ्ढे में दबा दिया गया। शव की पहचान मिटाने के लिए उसे जलाने का भी प्रयास किया गया था।

संतोष कुमार सिंह, एसएसपी ने बताया कि अधिवक्ता के शव को बरामद कर लिया गया है। मामले में कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है। दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगा।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.