आखिर वहीं हुआ जिसकी संभावना थी। सभी दलों ने सपा प्रत्याशी का रास्ता साफ कर दिया। बसपा ने इसलिए कि उसके खिलाफ सपा बहुत उग्र न हो जाए तो भाजपा प्रत्याशी ने हाईकमान के इशारे पर जानबूझ कर पर्चा नहीं भरा और सपा प्रत्याशी उिम्पल यादव का रास्ता साफ कर दिया। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्नी और कन्नौज लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी डिम्पल यादव शनिवार को आखिरकार निर्विरोध सांसद चुन ली गईं। कन्नौज की जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे ने शनिवार को ठीक तीन बजे डिम्पल के निर्विरोध निर्वाचित होने की घोषणा की। जीत की घोषणा के साथ ही सपा में खुशी की लहर दौड़ गयी।
डिम्पल के निर्विरोध निर्वाचित होने की आधिकारिक घोषणा होने के बाद सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव ने इसे जनता की जीत करार दिया। मुलायम ने कहा कि यह जनता की जीत है। डिम्पल ने इतिहास कायम किया है। अब पूरी लगन के साथ वह अपने क्षेत्र की सेवा करेंगी।

डिम्पल यादव के खिलाफ नामांकन पत्र दाखिल करने वाले मात्र दो उम्मीदवारों निर्दलीय संजू कटियार और संयुक्त समाजवादी दल के उम्मीदवार दशरथ शंखवार ने शुक्रवार को ही अपना नामांकन वापस ले लिया था।

कांग्रेस, बहुजन समाज पार्टी जहां इस सीट से अपने उम्मीदवार नहीं उतारने का निर्णय लिया था जबकि भारतीय जनता पार्टी ने अंतिम समय में अपने उम्मीदवार जगदेव सिंह यादव के नाम की घोषणा की थी लेकिन समय सीमा समाप्त हो जाने की वजह से वह अपना नामांकन दाखिल नहीं कर पाए थे।
गौरतलब है कि वर्ष 2009 में हुए लोकसभा चुनाव में डिम्पल फिरोजाबाद सीट से चुनाव लड़ी थीं लेकिन इस चुनाव में उन्हें बॉलीवुड अभिनेता और कांग्रेस के उम्मीदवार राज बब्बर से शिकस्त खानी पडी थी।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.