वाराणसी समेत पूर्वांचल (Purvanchal ) के एक हजार से ज्यादा सरकारी कर्जदारों (Government Debtors) की बिजली काट (Power Cut) दी गई है. इनमें वो सरकारी विभाग शामिल हैं, जिन पर सालों से बकाया (Arrears) था और वे बजट की बात कहते हुए बिल का भुगतान नहीं कर रहे थे. पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम (Purvanchal Vidyut Vitran Nigam) ने 21 जिलों में विशेष अभियान चलाते हुए करीब एक हजार सरकार बकायेदारों की बिजली काट दी. ये अभियान वाराणसी, प्रयागराज, मिर्जापुर, आजमगढ़ मंडल समेत पूर्वाचंल के 21 जिलों में चलाया गया था. बिजली विभाग के इस एक्शन से पूरे पूर्वांचल में हड़कंप मच गया.
पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के नए एमडी विद्याभूषण एक्शन मोड पर हैं. पदभार संभालने के बाद से ही वो लगातार बिजली सप्लाई व्यवस्था दुरुस्त करने के लिए लगातार कोशिशें कर रहे हैं, वही दूसरी ओर राजस्व वसूली के लिए लगातार छापेमारी की जा रही है. इसी के तहत शासन के आदेश पर सरकारी बिजली के बकायेदारों के खिलाफ ये अभियान चलाया गया है.
21 जिलों के एक हजार से ज्यादा महकमों पर कार्रवाई
इस अभियान में पूर्वांचल के 21 जिलों के एक हजार से ज्यादा सरकारी महकमों की बिजली काट दी गई है. इसमें सरकारी स्कूल, ब्लॉक कार्यालय, सिंचाई विभाग, सीएमओ कार्यलय, पीडब्ल्यूडी कार्यालय शामिल है.
इन विभागों को दी गई छूट
हालांकि इस अभियान से अस्पतालों औऱ पेयजल विभाग को अलग रखा गया है. ताकि किसी तरह इलाज में दिक्कत नहीं आए और ना ही पानी की किल्लत हो. जानकारी के अनुसार कनेक्शन कटने के बाद वाराणसी के सीएमओ कार्यलय ने भुगतान कर दिया है. वहीं मानसिक अस्पताल ने भी भुगतान कर दिया है. इसके बाद इनकी बिजली दोबारा बहाल कर दी गई है. एमडी विद्याभूषण ने बताया कि कई सालों से इन महकमों पर करोड़ों रुपए का बकाया था. बार-बार नोटिस के बाद भी भुगतान नहीं किया जा रहा था. इसके बाद शासन के निर्देश पर अभियान चलाने हुए बिजली काट दी गई.
बिजली विभाग को दो करोड़ का चूना लगाने वाला गिरफ्तार
वहीं उत्तर प्रदेश के नोएडा में पुलिस ने एक संगठित गिरोह बनाकर बिजली विभाग को दो करोड़ से अधिक का चूना लगाने वाले गिरोह के एक बदमाश को गिरफ्तार किया. पुलिस ने बताया कि गैंगस्टर अधिनियम में वांछित विकास शर्मा को थाना सेक्टर-49 पुलिस ने गिरफ्तार किया.
उन्होंने बताया कि उसके खिलाफ बिजली विभाग के साथ दो करोड़ रुपए से अधिक की धोखाधड़ी करने का भी आरोप है. पुलिस ने बताया कि एक अन्य मामले में नामी कंपनियों के नकली वाटर प्यूरीफायर (आरो) बनाकर बेचने वाले एक गिरोह के दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस ने बताया कि दोनों पिता-पुत्र हैं और इनके पास से पुलिस ने भारी मात्रा में नकली आरो और उसके पार्ट्स बरामद किए हैं.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.