मृत्युंजय दीक्षित

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि जी की असमायिक मौत से पूरा देश स्तब्ध रह गया है तथा अपने पीछे कई सवाल भी छोड़ गया है। महंत की मौत में सबसे बड़ा यक्ष प्रश्न यह है कि एक ऐसा महान संत जो पूरे समाज को एक नयी दिशा देता हो, आम जनता की समस्याओं व जिज्ञासाओं का समाधान करता हो तथा जिसके व्यक्तित्व व वाणी का प्रभाव हो ,वह आत्महत्या कैसे कर सकता है ? महंत नरेद्र गिरि जी को संपत्ति से भी कोई लेना देना नहीं था, फिर आखिर वह कौन सी बात थी जिसके कारण उन्हें इतना दुर्भाग्यपूर्ण निर्णय लेना पड़ गया। वह एक ऐसे महान संत थे जिनके पास दिन भर लोग उनसे मिलने के लिए व उनका आशीर्वाद लेने के लिए उनके मठ पर आते रहते थे और वह लगातार अपने दैनिक जीवन के कार्यों के साथ लोगों के साथ मिलते -जुलते रहते थे फिर ऐसी क्या बात व विवाद था जिसके कारण उन्हें यह कदम उठाना पड़ गया।
अभी उनकी मृत्यु के कारणों की गहन जांच चल रही है प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने भी हर प्रकार जांच व दोषियों पर कड़ी कार्यवाही की बात कही है। प्रदेश सरकार के सभी मंत्रियों ने भी कहा कि जो भी दोषी होगा उसे कड़ी से कड़ी सजा मिलेगी। गिरि जी के निधन से आज संत समाज व्याकुल ,व्यथित हो रहा है तथा वह पूरे घटनाक्रम की सीबीआई जांच की मांग भी कर रहा है। महंत नरेंद्र गिरि जी का संत समाज में बहुत सम्मान था। वह एक ऐसे संत थे जिन्होंने विश्व हिंदू परिषद के पूर्व दिवंगत नेता अशोक सिंहल जी के देहावसान के बाद देशभर के संत समाज को एक मंच पर लाने का अनुकरणीय काम किया। अन्यथा अशोक जी के निधन के बाद एक बार सभी को लग रहा था कि अब विभिन्न मठों और गुटों में बंटे संत समाज को एक मंच पर आखिर कौन लायेगा। अशोक जी के बाद रिक्त स्थान को भरने का काम महंत नरेंद्र गिरि जी ने कर दिखाया था। महंत नरेंद्र गिरि जी ने अयोध्या आंदोलन से लेकर भव्य श्रीराम मंदिर का निर्माण प्रारंभ होने पर भी अहम भूमिका निभाई । समर्पण निधि अभियान में भी उन्होंने अप्रतिम योगदान दिया था। महंत जी की एक आवाज पर पूरा संत समाज एकजुट हो जाता था।
अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष के रूप में महंत जी की छवि कड़े निर्णय लेने वाले पदाधिकारी के रूप में रही। उन्होंने ऐसे कई निर्णय लिये जिन पर पूरे देशभर में चर्चा हुई। सबसे अधिक चर्चा का विषय बना था फर्जी संतां की सूची जारी करना। उन्होंने फर्जी सूची जारी करके तहलका मचा दिया था और देश के हर टीवी चैनल व सोशल मीडिया पर खूब चर्चा हुई। सूची वापस लेन के लिए उन पर काफी दबाव बनाया गया लेकिन वह सूची उन्होंने वापस नहीं ली। नरेंद्र गिरि जी ने 1983 में घर छोड़ा और मन में वैराग्य आने पर गांव से शहर आ गये। उस समय संगम तट पर कुंभ का मेला लगा था । नरेंद्र गिरि श्रीनिरंजनी अखाड़ा के कोठारी दिव्यानंद गिरि के सानिध्य में रहकर उनकी सेवा करने लग गये। कुंभ समाप्त होने के बाद महंत दिव्यानंद उन्हें हरिद्वार लेकर गये। 1985 में उन्होंने संयास की दीक्षा ली। इसके बाद श्रीनिरंजनी अखाड़ा के महात्मा व बाघम्बरी गददी के महंत बलवंत गिरि ने उन्हें गुरू दीक्षा दी।
बलवंत गिरि के ब्रहमलीन होने पर महंत नरेंद्र गिरि ने 2004 बाघम्बरी मठ के पीठाधीष्वर तथा बड़े हनुमान मंदिर के महंत का कार्यभार संभाला। मठ व मंदिर को भव्य स्वरूप दिलवाया। नासिक कुंभ से पहले 2014 में उन्हें अयोध्या निवासी महंत ज्ञानदास की जगह संतां की सबसे बड़ी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद का अध्यक्ष चुना गया। अखाड़ा परिषद का अध्यक्ष बनने के बाद उनका समाज में पद और प्रतिष्ठा बढ़ती चली गयी। महंत नरेंद्र गिरि जी की वर्ष 2019 के कुंभ के अद्वितीय व अदभुत आयोजन में अतिमहत्वपूर्ण भूमिका थी जिसका उल्लेख मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी किया है। वर्ष 2017 में प्रदेश में योगी जी के नेतृत्व में बीजेपी सरकार बनने के बाद उनका प्रभाव और महत्व व्यापक हो गया। महंत नरेंद्र गिरि जी की मुख्यमंत्री से नजदीकियां गहरी हो गयी थीं। मुख्यमंत्री के प्रयागराज पहुंचने पर उन्हें भोजन कराते , हनुमान मंदिर में पूजन कराने से लेकर लखनऊ में मुख्यमंत्री आवास में भेंटवार्ताओं का क्रम चलता रहता था। जबकि संत समाज में 2017 से पहले यह बात भी प्रचलित थी कि महंत नरेंद्र गिरि जी समाजवादी संत हैं ।
लेकिन वास्तविकता में महंत नरेंद्र गिरि जी केवल हिंदू समाज के संत थे । वह हिंदुत्व विचारधारा के प्रबल समर्थक थे। गाय, गंगा व हिंदू आस्थाओं के सभी प्रतीकों के प्रति बहुत संवेदनशील रहते थे। वह धर्मांतरण के खिलाफ थे ओर लव जिहाद के विरोधी भी थे। वह विश्व हिंदू परिषद के कार्यों में पूरा सहयोग करते थे। हिंदू धर्म से संबंधित कोई विवाद होने पर वह आगे बढ़कर हिंदू समाज की ओर से अपना व संत समाज का पक्ष रखते थे। उनके विचारों का सम्मान व उन पर चर्चा भी होती था। एक ऐसा महान संत जिसने गीता, रामायण, महाभारत सहित तमाम धार्मिक ग्रंथों का अध्ययन किया हो और उन्हें कई विषयों का ज्ञान भी हो ऐसा संत आत्महत्या तो नहीं कर सकता। यह सवाल आज पूरे देशभर में लोगों को परेशान और व्यथित कर रहा है। महंत जी की मृत्यु के कारणों की गहन और निष्पक्ष जांच चल रही है और समय आने पर ही पता चलेगा कि यह आत्महत्या है या फिर कोई बहुत गहरी साजिश का हिस्सा।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी , गृहमंत्री अमित शाह, केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह व उप्र सरकार के सभी मंत्रियों ने महंत नरेंद्र गिरि जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। महंत जी के निधन पर संत समाज आहत है लेकिन प्रदेश के तथाकथित विरोधी दलों ने महंत जी की मौत पर राजनीति शु रू कर दी है जिससे उनकी विकृत मानसिकता का पता चलता है और यह भी पता चल रहा है कि यह सभी दल वास्तव में एक्सीडेंटल हिंदू बन चुके हैं। महंत जी के निधन का समाचार आते ही सबसे पहले आश्चर्यजनक रूप से अखिलेश यादव ने शोक व्यक्त किया। उसके बाद आरोप प्रत्योराप का सिलसिल शुरू हो गया। उनके मठ में सत्ता विरोधी दलो के नेताओं का आना जाना भी लगा रहता था। समाजवादी नेता अखिलेश यादव भी उनके मठ में आया जाया करते थे और चुनावों में उनका सहयोग मांगा करते थे।
अचानक ही सभी दल महंत प्रेमी बन गये और सरकार पर सवाल दागने लग गये, तंज कसने लग गये और सीबीआई जांच की मांग तक करने लग गये।
सोशल मीडिया में महंत जी के निधन के बाद कई लोगों ने बहुत ही अभद्र टिप्पणियां की हैं जिसमें एक यूजर लिख रहा हैं कि वह आरक्षण विरोधी संत थे मर गये अच्छा हुआ। इसी प्रकार की कई और टिप्पणियां की गयी है। जिनका उल्लेख यहां नहीं किया जा सकता। आज सोशल मीडिया के युग में लोग विचारों की अभिव्यक्ति के नाम पर काफी अनुशासनहीन व अभद्र हो गये हैं। सोशल मीडिया में मर्यादा नहीं है और गरिमा नहीं है। वास्तविकता यह है कि आज देश के अधिकांश संत व महंत दलित व पिछड़े समाज से ही आ रहे हैं लेकिन देशविरोधी ताकतें अभी भी महंतों का अपमान करने में लगी हुई हैं। महंत जी के निधन पर जगदगुरू स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती जी का कहना है कि अखाड़ा परिषद के सेनानायक का जाना कष्टकारी है। यह सनातन धर्म को घेरने की कोशिश है । घटना की निष्पक्ष जांच करके सत्यता को सामने लाने की जरूरत है। देशभर का संत समाज सच जानना चाह रहा है कि कहीं इसके पीछे कोई बहुत बड़ा राजनैतिक व समाजिक षड़यंत्र तो नहीं ? यदि है तो सामने आना चाहिए । यदि यह आत्महत्या तो इसके पीछे के कारण पता चने चाहिए और कारण पैदा करने वाले व्यक्ति को कड़ा से कड़ा दंड मिलना चाहिए।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.