आज (29 अप्रैल, मंगलवार) विश्व के कई देशों में कंकणा कृति सूर्यग्रहण होगा। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार ये ग्रहण दक्षिण एशिया, आस्ट्रेलिया, पेसिफिक, हिंद महासागर एवं अंटार्कटिका में दिखाई देगा। भारत में यह सूर्य ग्रहण कहीं भी दिखाई नहीं देगा।
9169_b 15 अप्रैल, 2014 को चंद्र ग्रहण हुआ था। ये ग्रहण भी भारत में दिखाई नहीं दिया था, लेकिन इतने कम समय दो ग्रहण होना ज्योतिष के नजरिए ये गलत संकेत है। ग्रहों की स्थिति पर नजर डालें तो वर्तमान में मंगल एवं शनि वक्रीय गति से चलायमान हैं, साथ ही राहु व शनि एक साथ तुला राशि में स्थित है। यह स्थिति प्राकृतिक उथल-पुथल की ओर संकेत कर रही है। जिन देशों में यह ग्रहण दिखाई देगा वहां तथा इसके अलावा अन्य देशों में भी प्राकृतिक आपदा जैसे- भूकंप, सुनामी आ सकती है। जिन देशों मे यह ग्रहण दिखाई देगा, वहां इस प्रकार की घटनाएं होने की आशंका अधिक है। भारतीय समयानुसार यह सूर्य ग्रहण 29 अप्रैल को सुबह 9. 23 से दोपहर 1. 45 तक रहेगा। इस दौरान सूर्य एवं चंद्र भरणी नक्षत्र में रहेंगे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.