mahagauriसम्पूर्ण वैवाहिक सुख एवं विवाह शीघ्र प्रदान करने वाली माँ महागौरी की उपासना।
नवरात्र के आठवें दिन मां के आठवें स्वरू प महागौरी की उपासना की जाती है इस दिन साधक विशेष तौर पर साधना में मूलाधर से लेकर सहस्रार चक्र तक विधि पूर्वक सफ ल हो गये होते हैं। उनकी कुं डलिनी जाग्रत हो चुकी होती हैं तथा अष्टम् दिवस महागौरी की उपासना एवं आराधना उनकी साधना शक्ति क ो और भी बल प्रदान क रती है। मां की चार भुजाएं हैं तथा वे अपने एक हाथ में त्रिशूल धारण कि ये हुए हैं, दूसरे हाथ से अभय मुद्रा में हैं, तीसरे हाथ में डमरू सुशोभित है तथा चौथा हाथ वर मुद्रा में है। मां का वाहन वृष है। अपने पूर्व जन्म में मां ने पार्वती रूप में भगवान शंकर को पति रूप में प्राप्त क रने के लिए क ठोर तपस्या की थी तथा शिव जी को पति स्वरूप प्राप्त कि या था। मां की उपासना से मन पसंद जीवन साथी एवं शीघ्र विवाह संपन्न होगा। मां कुं वारी क न्याओं से शीघ्र प्रसन्न होक र उन्हें मन चाहा जीवन साथी प्राप्त होने क ा वरदान देती हैं। इसमें मेरा निजी अनुभव है मैंने अनेक कुं वारी क न्याओं क ो जिनकी वैवाहिक समस्याएं थी उनसे भगवती गौरी की पूजा-अर्चना करवाकर विवाह संपन्न क रवाया है। यदि कि सी के विवाह में विलम्ब हो रहा हो तो वह भगवती महागौरी की साधना करें, मनोरथ पूर्ण होगा।

पूजन विधि –
सर्वप्रथम लकड़ी की चौकी पर या मंदिर में महागौरी की मूर्ति अथवा तस्वीर स्थापित करें तदुपरांत चौक ी पर सफेद वस्त्र बिछाक र उस पर महागौरी यंत्र रखें तथा यंत्र क ी स्थापना क रें। मां सौंदर्य प्रदान क रने वाली हैं। हाथ में श्वेत पुष्प लेकर मां क ा ध्यान करें।
ध्यान मंत्र –
श्वेते वृषे समारू ढा श्वेताम्बरधरा शुचि:।
महागौरी शुभम् दद्यान्महादेव प्रमोददा॥
ध्यान के बाद मां के श्री चरणों में पुष्प अर्पित क रें तथा यंत्र सहित मां भगवती क ा पंचोपचार विधि से अथवा षोडशोपचार विधि से पूजन करें तथा दूध से बने नैवेद्य का भोग लगाएं। तत्पश्चात् ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे। मंत्र की तथा साथ में ॐ महा गौरी देव्यै नम: मंत्र की इक्कीस माला जाप क रें तथा मनोकामना पूर्ति के लिए मां से प्रार्थना करें। अंत में मां की आरती और कीर्तन करें।
भोग
इस दिन भगवती को नारियल का भोग लगाना चाहिये। फिर नैवेद्य रूप वह नारियल ब्राह्मण को दे देना चाहिये। इसके फलस्वरूप उस पुरुष के पास किसी प्रकार के संताप नहीं आ सकते।
नवरात्र का नौवां दिन माँ सिध्दिदात्री का
सम्पूर्ण सिध्दियों को पूर्ण करने वाली माँ सिध्दिदात्री की उपासना
नवरात्र के नवम् तथा अंतिम दिन समस्त साधनाओं को सिद्ध एवं पूर्ण क रने वाली तथा अष्टसिद्धि नौ निधियों को प्रदान क रने वाली भगवती दुर्गा के नवम् रूप मां सिद्धिदात्री की पूजा-अर्चना का विधान है। देवी भगवती के अनुसार भगवान शिव ने मां की इसी शक्ति की उपासना क रके सिद्धियां प्राप्ति की थीं। इसके प्रभाव से भगवान का आधा शरीर स्त्री का हो गया था। उसी समय से भगवान शिव को अर्धनारीश्वर क हा जाने लगा है। इस रूप की साधना करके साधक गण अपनी साधना सफल करते हैं तथा सभी मनोरथ पूर्ण करते हैं। वैदिक पौराणिक तथा तांत्रिक किसी भी प्रकार की साधना में सफलता प्राप्त करने के पहले मां सिद्धिदात्री की उपासना अनिवार्य है।

पूजन विधि -सर्वप्रथम लकड़ी की चौकी पर लाल वस्त्र बिछाकर मां सिद्धिदात्री की मूर्ति अथवा तस्वीर को स्थापित क रें तथा सिद्धिदात्री यंत्र को भी चौकी पर स्थापित करें। तदुपरांत हाथ में लालपुष्प लेक र मां का ध्यान क रें।

ध्यान मंत्र –
सिध्दगन्धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि।
सेव्य ाना सदा भूयात् सिध्दिदा सिध्दिदायिनी॥
ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे।
ध्यान के बाद हाथ के पुष्प को मां के चरणों में छोड़ दें तथा मां का एवं सिद्धिदात्री का मंत्र का पंचोपचार अथवा षोडशोपचार विधि से पूजन करें। देशी घी से बने नैवेद्य का भोग लगाएं तथा मां के नवार्ण मंत्र का इक्कीस हजार की संख्या में जाप क रें। मंत्र के पूर्ण होने के बाद हवन करे तथा पूर्णाहुति करें। अंत में ब्राह्मणों को भोजन करायें तथा वस्त्र-आभूषण के साथ दक्षिणा देकर परिवार सहित आशीर्वाद प्राप्त क रें। कुंवारी कन्याओं का पूजन करे और भोजन क रायें। वस्त्र पहनायें वस्त्रों में लाल चुनरी अवश्य होना चाहिए क्योंकि मां को लाल चुनरी अधिक प्रिय है। कुंआरी क न्याओं को मां का स्वरूप माना गया है। इसलिए क न्याओं का पूजन अति महत्वपूर्ण एवं अनिवार्य है।
भोग
इस दिन भगवती को धान का लावा अर्पण करके ब्राह्मण को दे देना चाहिये। इस दान के प्रभाव से पुरुष इस लोक और परलोक में भी सुखी रह सकता है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.