ज्येष्ठï माह के पहले मंगलवार से ही लखनऊ में आस्था और भक्ति भाव का सैलाव उमड़ पड़ा है।
भक्तों को किसी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े इसके लिए मंदिर पर बेरीकेडिंग के साथ ही अतिरिक्त पुलिस बल और क्लोज सर्किट कैमरे लगाए गए हैं। अलीगंज के नए हनुमान मंदिर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजामों के साथ ही भक्तों को भंडारे के लिए पीछे का रास्ता खोला गया है, जिससे दर्शन करने वालों को कोई परेशानी न हो। पक्कापुल स्थित दक्षिण मुखी हनुमान मंदिर और लेटे हुए हनुमान मंदिरों में भी बड़े मंगल की तैयारियां पूरी हो गई हैं। जीबी चेरीटेबल ट्रस्ट के सुनील गोंबर ने बताया कि लेटे हुए हनुमान मंदिर में सुबह फूलों से श्रृंगार के साथ ही सुंदरकांड पाठ और भंडारे का आयोजन किया जाएगा।
सोमनाथ द्वार के पास कालू बीर मंदिर, हजरतगंज के दक्षिण मुखी हनुमान मंदिर व छांछी कुआं के अलावा हनुमान सेतु मंदिर, आशियाना के छुआरे वाले हनुमान मंदिर के साथ ही गुलाचीन मंदिर, डालीगंज के मुकारिमनगर स्थित हनुमान मंदिर, राजाजीपुरम के टड़ियन हनुमान मंदिर, चौक के पुराने हनुमान मंदिर, आलमबाग के मौनी बाबा मंदिर, कृष्णानगर के मानसनगर स्थित तुलसी मानस मंदिर के अलावा राजधानी के सभी हनुमान मंदिरों में पूजा-अर्चना की तैयारियां पूरी हो गई हैं। मंदिर के पास दुकानदारों की ओर से लड्डू बनाने का कार्य युद्धस्तर पर चल रहा है। मीठा दूध तो कहीं बंटेगी आइसक्रीम समय के साथ ही हमारी परंपराओं में भी बदलाव आने लगा है। इसी के चलते बड़े मंगल पर भक्तों की ओर से लगाए जाने वाले भंडारों में भी खासा बदलाव आया है। शर्बत और बताशा पानी से ऊपर उठकर लोग अब लजीज पकवानों का वितरण करने लगे हैं। तो इस बड़े मंगल पर आप भी प्रसाद के रूप में लजीज पकवानों का स्वाद लेने के लिए तैयार हो जाइए।
ज्येष्ठ का बड़ा मंगल जहां बजरंग बली के पूजन का पर्व है वहीं दूसरी ओर भक्तों की ओर से लोगों को भोजन एवं पानी भी पिलाया जाता है। नया हनुमान मंदिर परिसर में हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी भक्तों को मीठा दूध का सेवन कराया जाएगा।
राजाजीपुरम के बालाजी मंदिर के पास बालाजी का हर मंगल को अलग-अलग श्रृंगार के साथ ही पूड़ी सब्जी व छोले चावल का भंडारा लगाया जाएगा। नरही के ज्ञानेश्वर ओम मंदिर के पास हर वर्ष की भांति हलवा-पूड़ी व चने का वितरण किया जाएगा। अलीगंज के आर्य समाज के वार्षिकोत्सव के तहत बड़े मंगल पर मेला लगेगा। इससे पहले सोमवार को कानपुर से आए आचार्य जलेश्वर मिश्र ने बजरंग बली के जीवन पर प्रकाश डाला। बड़े मंगल पर इंदिरानगर सेक्टर-12 स्थित ओंकारेश्वर मंदिर में सुबह सुंदरकांड के साथ ही भंडारे का आयोजन होगा। बड़े मंगल पर तालकटोरा रोड स्थित बालाजी मंदिर में सुबह बाबाhanumanका सोने की वर्क से श्रंगार किया जाएगा। भंडारे के बाद शाम रमेश द्विवेदी की ओर से भजन संध्या का आयोजन होगा।
आस्था, समर्पण और भक्ति की परिक्रमा-
आस्था, समर्पण और भक्ति की त्रिवेणी का समागम ज्येष्ठ के बड़े मंगल पर अलीगंज के पुराने हनुमान मंदिरों के अलावा अन्य प्राचीन मंदिरों में देखने को मिला। ज्येष्ठ के पहले बड़े मंगल पर सोमवार की देर रात से परिक्रमा करते भक्तों के आने का क्रम शुरू हुआ और मंगल की भोर तक चलता रहा। बजरंग बली के जयकारे के साथ मनोकामना पूर्ण कर पवनसुत के दरबार तक दंडवत कर पहुंचने की लालसा सभी परिक्रमा करने वालों में नजर आया। सभी की मनौती भले की अलग हो, लेकिन मंजिल सब की संकटहर्ता बजरंग बली के द्वार की ही होती है। अलीगंज के पुराने हनुमान मंदिर के दर्शन के लिए परिक्रमा करते हुए आने वालों का क्रम देर रात से शुरू हुआ और भोर तक चलता रहा।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.