vijay-mallyaनयी दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने बैंकों का ऋण चुकता नहीं करने के आरोपी उद्योगपति विजय माल्या को एक महीने के अंदर विदेशों में स्थित अपनी पूरी सम्पत्तियों का ब्योरा देने का आज निर्देश दिया। न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ और न्यायमूर्ति रोहिंगटन एफ नरीमन की पीठ ने भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के नेतृत्व वाले बैंकों के समूह की अवमानना याचिका की सुनवाई के दौरान यह निर्देश दिया।

न्यायालय ने विजय माल्या से यह भी बताने को कहा है कि यूनाइटेड स्प्रिट्स लिमिटेड छोड़ने के लिए डिआजियो से उन्हें 26 फरवरी को जो 4 करोड़ डॉलर मिले, उसका उन्होंने क्या किया? न्यायालय का यह आदेश उस वक्त आया जब बैंकों के कंसोर्टियम ने अवगत कराया कि माल्या ने अपनी सम्पत्तियों और देन दारियों का पूरा ब्योरा नहीं सौंपा है। इसके बाद न्यायालय ने माल्या को अपने विदेशी बैंक खातों सहित सभी विदेशी सम्पत्तियों के बारे में पूरा खुलासा करने का आदेश दिया।

इससे पहले न्यायालय ने केंद्र सरकार से माल्या के मौजूदा ठिकाने के बारे में जानकारी चाही थी पर एटर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने बताया कि, विजय माल्या इन समय लंदन में हैं। कंसोर्टियम ने शीर्ष अदालत को बताया है कि, 9000 करोड़ रुपये शराब कारोबारी माल्या पर बकाया हैं। गत 26 अप्रैल को भी उच्च न्यायालय ने माल्या से अपने सम्पत्तियों का ब्योरा देने को कहा था, लेकिन वह इस पर खरे नहीं उतरे हैं। मामले की अगली सुनवाई 24 नवम्बर को होगी।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.