whatsapp-2-12-339-whatsappदिल्ली हाई कोर्ट ने व्हाट्सऐप के लिए किसी भी डेटा को फेसबुक पर साझा करने से मना किया हैं। हाई कोर्ट ने 25 सितम्बर तक के लिए  व्हाट्सऐप के किसी भी डाटा को साझा नही करना है। 25 सितम्बर के बाद से व्हाट्सऐप पर आपको नए टर्म्स ऑफ सर्विस का नोटिफिकेशन होगा।  इस नये एप्लीकेशन को जैसे ही आप खोलेंगे, एक दुसरे पेज पर खुल खुलेगा जिसमें नए टर्म्स ऑफ सर्विस का ज़िक्र किया गया होगा। व्हाट्सऐप को
दुनिया भर में एक अरब से ज्यादा यू़ज़र हैं जो इस ऐप को यूज करते हैं। जिसमें से सबसे ज्यादा और बड़ा हिस्सा भारत से है।

क्यों इसे रोका गया

फेसबुक के स्वामित्व वाली इंस्टेंट मैसेजिंग सर्विस व्हाट्सऐप अब फेसबुक पर यूज़र डेटा को साझा करने पर रोक लगा दी है। व्हाट्सऐप ने 25 अगस्त को नई प्राइवेसी पॉलिसी जारी की थी। जो एक महीने बाद से लागू होने वाली इस नीति से उपयोगकर्ता की जानकारी और डाटा सुरक्षित रखने वाले फीचर हटा दिए जाएंगे। इसके बाद वाट्सएप इन जानकारियों को फेसबुक या अपने समूह की अन्य कंपनियों से साझा कर सकता है।
जो अभी तक व्हाट्सऐप चली आ रही थी उसमें 25 अगस्त को बदलाव किया गया था। इस बदलाव के कारण दिल्ली हाई कोर्ट ने इस यािचका को स्वीकार कर लिया लेकिन व्हाट्सऐप और केंद्र सरकार को नोटिस लारी कर जवाब मांगा।
इसके खिलाफ हाई कोर्ट में दो छात्रों कर्मण्य सिंह सरलीन और श्रेया सेठी ने जनहित याचिका दाखिल की थी। और उनका कहना था नई नीति के तहत यूजर्स के अधिकारों का उल्लंघन करते हुए उनकी गोपनीय जानकारी को वाट्सएप से संबंधित कंपनियों से साझा किया जा रहा है। कोर्ट ने यह भी कहा कि 25 सितंबर से पहले का डाटा फेसबुक व अन्य किसी कंपनी के साथ किसी भी कीमत पर साझा नहीं किया जा सकता है। लेकिन 25 सितंबर के बाद के डेटा को व्हाट्सऐप, फेसबुक के साथ साझा किया जा सकता है।

व्हाटसऐप का पक्ष

व्हाट्सऐप ने कोर्ट में हलफनामा देते हुए अपनी नीति का बचाव किया था। कंपनी ने कहा था कि यूर्जस द्वारा वाट्सएप में डाली गई कोई भी डाटा फेसबुक या अन्य दूसरी कंपनी के साथ साझा नहीं की जाएगी। वाट्सएप ने अदालत को बताया था कि अगर कोई यूर्जस अपना अकाउंट डिलीट भी करता है तो उसकी कोई भी जानकारी सर्वर पर नहीं रखता। इससे पहले भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण  ने हाई कोर्ट में कहा था कि उसके पास इस मामले में दखल देने का अधिकार नहीं है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.