1431439411-5568

केंद्र सरकार ने जीएसटी को लागू करने का काम तेजी से कर दिया है। टैक्स डिपार्टमेंट ने मंगलवार को दो ड्राफ्ट रूल्स, जीएसटी रिटर्न, रिफंड के लिए प्रारूप जारी कर दिये है। जीएसटी के तहत असेसीरिज को मंथली रिटर्न भरना होगा। इसके साथ ही टैक्स, इंटरेस्ट और फीस पर रिफंड क्लेम करने की प्रक्रिया भी बताई गई है।

स्टेकहोल्डर्स को दो ड्राफ्ट रूल्स के साथ अन्य रूल्स पर अपनी टिप्पणियां देने के लिए बुधवार तक का समय दिया गया है। इन रूल्स को 30 सितंबर को होने वाली जीएसटी काउंसिल की अगली मीटिंग में अंतिम रूप दिया जाएगा। सेंट्रल बोर्ड ऑफ एक्साइज एंड कस्टम्स ने सोमवार को तीन ड्राफ्ट रूल्स और रजिस्ट्रेशन, इनवॉयस और पेमेंट के लिए फॉर्मेट जारी किए थे और उन्हें लेकर जनता से टिप्पणियां मांगी गई थी।

सरकार जीएसटी को अगले वित्तिय वर्ष में लागू करना चाहती है। रिफंड के रूल्स के तहत, टैक्स चुकाने वाले रजिस्टर्ड व्यक्ति को जीएसटीआर फॉर्म में मंथली रिटर्न भरना होगा। रूल्स में कहा गया है कि एक फाइनेंशियल ईयर के दौरान एक करोड़ रुपये से अधिक की टर्नओवर रखने वाले प्रत्येक टैक्सेबल व्यक्ति को सालाना एक सर्टिफाइड ऑडिटेड स्टेटमेंट दाखिल करनी होगी। नांगिया एंड कंपनी के डायरेक्टर रजत मोहन ने बताया कि ड्राफ्ट रूल्स में कंपोजिशन सप्लायर की ओर से क्वॉर्टरली रिटर्न, नॉन-रेजिडेंट टैक्सेबल व्यक्ति की ओर से रिटर्न भरने के फॉर्म और तरीके की जानकारी दी गई है।


कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.