डिजीटल ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने और नकद लेनदेन पर पाबंदी लगाने के लिए सरकार आगामी बजट में कुछ बड़ी घोषणाएं कर सकती है। सरकार पैन नंबर मुहैया कराने के लिहाज से नकदी लेन-देन की सीमा में बड़ी कटौती कर सकती है।

खबर के मुताबिक जा रहा है कि सरकार इस सीमा को 30 हजार रुपए कर सकती है, फिलहाल यह सीमा पचास हजार रुपए है यानी की 50 हजार से ज्यादा का लेनदेन करने पर पैन की जानकारी देनी होती है। अगर सरकार इसमें बदलाव करती है तो 30 हजार से ऊपर के लेनदेन पर पैन की डिटेल्स देनी पड़ सकती है। यही नहीं कारोबारी लेन-देन के लिए भी पैन कार्ड डिटेल्स देने का भी मापदंड बदला जा सकता है और अब कम नकदी लेन-देन पर ही पैन कार्ड देने पड़ सकते हैं।

जानकारी के मुताबिक पैन कार्ड डिटेल्स में बदलाव के अलावा सरकार एक तय सीमा से ऊपर कैश पेमेंट्स के लेनदेन पर कैश हैंडलिंग चार्जेस की भी घोषणा कर सकती है। सरकार इस कदम में जरिए उन लोगों पर लगाम लगाना चाहती है जो कि कैश ट्रांजेक्शन में डील्स करते हैं। सरकार इन कदमों के जरिए लेस कैश इकोनॉमी को बढ़ावा देना चाहती है। इसके लिए सरकार डिजीटल ट्रांजेक्शन को बढ़ावा देने के लिए हर कदम उठा रही है। इसी को देखते हुए सरकार में BHIM ऐप भी लॉन्च किया था।

गौरतलब है कि 8 नवबंर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए 500 और 1000 रुपए के पुराने नोटों को अमान्य करार दे दिया था। जिसके बाद नकदी के लिए बैंकों और एटीएम के बाहर लोगों की लंबी-लंबी लाइनें लग गई। नोटबंदी के बाद कैशलेस इकोनॉमी की मुहिम तेज हो गई थी और कैश किल्लत से परेशान लोग डिजिटल पेमेंट की तरफ मुड़ गए।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.