air-indiaनई दिल्ली। देश के प्रमुख मार्गों पर यात्रा करने वाले हवाई यात्रियों को एक घंटे की हवाई सफर के लिए मात्र 2500 रुपये देने होंगे। केंद्र सरकार ने इस योजना को क्षेत्रीय संपर्क योजना के तहत शुरू किया है। और इस योजना का नाम ‘उड़ान’ है। सरकार को उम्मीद है कि इस योजना की पहली उड़ान अगले साल जनवरी में शुरू की जाएगी।

दुनिया भर में अपनी तरह की इस पहली योजना उड़ान के तहत ‘फिक्स्ड विंग एयरक्राफ्ट’ में बाजार व्यवस्था के साथ न्यूनतम 9 सीटें और अधिकतम 40 सीटों पर आधारित होगी। इस योजना के अन्तर्गत ऐसी उड़ानों में 50 प्रतिशत सीटों के लिये किराया सीमा 2,500 रुपये होगा और बाकि के सीटों में यह बाजार आधारित कीमत व्यवस्था पर आधारित होगा।

उन्होंने कहा कि शुल्क इतना कम है कि हर कोई इसका लाभ उठा सकते है। मार्गों पर शुल्क से हवाई किराये में वृद्धि की संभावना है। विमानन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने कहा कि, विश्व स्तर पर यह हमारी पहली योजना है। हम कुछ ऐसा कर रहे हैं। जो पहले कहीं कभी किया ही नहीं गया है। विमानन मंत्री अशोक गजपति राजू ने आज मीडिया को बताया, ‘हम सावधानी के साथ उड़ान के लिए आशावान हैं।

अशोक गजपति राजू ने कहा कि योजना के तहत पहली उड़ान जनवरी 2017 में शुरू होने की उम्मीद है। उल्लेखनीय है कि कुछ एयरलाइंस योजना के वित पोषण के लिए शुल्क लगाने के प्रस्ताव से नाखुश हैं। योजना का मसौदा जुलाई में पेश किया गया था। विमानन सचिव आरएन चौबे ने कहा कि शुल्क से संबंधित नियम राजपत्र में दो दिन में प्रकाशित किया जाएगा।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.