प्रमुख वाहन निर्माता कम्पनी हिन्दुस्तान मोटर्स लिमिटेड प्रबंधन ने शनिवार को उत्तरपाड़ा प्लांट में अनिश्चितकाल के लिए काम रोक दिया है. कम्पनी से जुड़े सूत्रों ने बताया कि जब तक काम बंद रहेगा, तब तक प्लांट के कर्मचारियों को वेतन का भुगतान नहीं किया जाएगा. काम रोकने संबंधी नोटिस को शुक्रवार रात प्लांट के मेन गेट पर चिपका दिया गया था.
उल्लेखनीय है कि हिंदुस्तान मोटर्स देश की प्रथम स्वदेशी कार बनाने वाली निर्माता कंपनी है, जिसने साल 1942 में यह कारनामा किया था.
नकदी संकट से उत्पादन बंद
प्लांट नकदी संकट से जूझ रहा है. इस वजह से यहां एम्बेसडर कार विनिर्माण के ऑर्डर पर अमल नहीं हो पा रहा है. प्रबंधन का दावा है कि संयंत्र में काम रोकने से इसे और बदहाली से रोका जा सकेगा. जैसे ही कोई रणनीतिक निवेशक धन के साथ इसमें आएगा, स्थिति में सुधार आने लगेगा. इसे कम्पनी के चेन्नई संयंत्र से अलग कर दिया गया है. चेन्नई प्लांट को हिन्दुस्तान मोटर्स फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड के तहत ला दिया गया है.
6 महीने से नहीं मिला वेतन
पश्चिम बंगाल के हुगली जिले के उत्तरपाड़ा स्थित देश का पहला और एकमात्र एकीकृत ओटोमोबाइल प्लांट हिंद मोटर पिछले कई वर्षो से आर्थिक तंगी का सामना कर रहा है. काम पर पहुंचे कर्मचारी प्लांट के मुख्य गेट पर काम रोकने का नोटिस चस्पां देख लौट गए. प्लांट बंद होने से कर्मचारियों में रोष है. उनका कहना कि पिछले छह माह से वेतन नहीं मिल रहा था.
पड़ जाएँगे खाने के लाले
hindustan motorsसंयंत्र बंद होने से उनके सामने अंधेरा छा गया है. अब उन्हें खाने के लाले पड़ जाएंगे. यूनियन नेताओं का भी कहना है कि दिसम्बर 2013 से वेतन नहीं मिल रहा था. उन्होंने प्रबंधन से प्लांट खोलने तथा बकाया भुगतान करने की अपील की. पहले एक माह में जहां 15 सौ वाहन तैयार किए जाते थे. अब महज डेढ़ सौ बनाए जा रहे हैं.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.