वैश्विक बाजार में कच्चे तेल के दाम में भारी गिरावट के बावजूद तेल कंपनियों द्वारा घरेलू बाजार में पेट्रोल, डीजल के दाम की समीक्षा नहीं किये जाने पर पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने आज कहा कि इस मामले में सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियां जो भी उचित होगा वह फैसला करेंगी।

तेल कंपनियां हर पखवाड़े अंतरराष्ट्रीय बाजार के अनुरूप घरेलू बाजार में पेट्रोल, डीजल के दाम की समीक्षा करतीं हैं। इसी कड़ी में कंपनियों द्वारा कल पेट्रोल और डीजल के दाम में कमी किये जाने की उम्मीद थी क्योंकि विश्व बाजार में लगातार दाम नीचे आ रहे हैं। लेकिन उन्होंने ऐसा कोई कदम नहीं उठाया।

इससे पहले भी दो मौकों पर कंपनियों ने दाम की समीक्षा नहीं की।  उस समय सरकार ने अतिरिक्त राजस्व जुटाने के लिये उत्पाद शुल्क में बढ़ोतरी कर दी। इससे वैश्विक बाजार में दाम घटने के बावजूद कमी का लाभ उपभोक्ताओं को नहीं मिल पाया।

इंडिया एनर्जी फोरम और ओआरएफ द्वारा यहां आयोजित 13वें पेट्रो इंडिया सम्मेलन में प्रधान ने कहा, यह हमारे हाथ में नहीं है। उन्होंने कहा कि दोनों ईंधन नियंत्रण मुक्त हैं और इनकी कीमतों के बारे में तेल कंपनियां फैसला करती हैं।

उन्होंने कहा कि तेल कंपनियां जो भी उपयुक्त समक्षेंगी, करेंगी। अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल के दाम में कमी से पेट्रोल, डीजल के दाम में 3 से 4 रुपये प्रति लीटर की कटौती हो सकती थी लेकिन अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपये के मूल्य में गिरावट से कुछ लाभ कम हुआ है।

petrol~16~01~2015~1421402111_storyimage

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.