paise
नयी दिल्ली। कर्मचारी भविष्य निधि योजना संगठन (ईपीएफओ) की पेंशन योजना में मासिक पेंशन को कम से कम।,000 रूपए करने की बहुप्रतीक्षित अधिसूचना आज जारी कर दी गई। इसके साथ ही कर्मचारियों की सामाजिक सुरक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण उपाय के तहत ईपीएफ के लिए अधिकमत वेतन सीमा भी बढ़ाकर 15,000 रूपए कर दी गई है। ये फैसले। सितंबर से लागू होंगे। कर्मचारी पेंशन योजना 1995 (ईपीएस-95) में न्यूनतम पेंशन।,000 रूपए करने से तत्काल ही 28 लाख पेंशनभोगियों को फायदा होगा जिन्हें अभी कम पेंशन मिलती है।
कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) का अंशधारक बनने की पात्रता के लिए वेतन सीमा को 6,500 रूपए मासिक से बढा कर 15,000 रूपए करने से संगठित क्षेत्र के 50 लाख और कर्मचारी इस योजना के दायरे में आ जाएंगे। केंद्रीय भविष्य निधि आयुक्त के के जालान ने कहा, सरकार ने वेतन सीमा बढ़ाकर 15,000 प्रतिशत माह किए जाने, ईपीएस-95 के तहत न्यूनतम मासिक वेतन।,000 रूपए और कर्मचारी की ईपीएफ जाम से संबद्ध बीमा (ईडीएलआई) योजना के तहत अधिकतम अधिकतम बीमित राशि (पारिवारिक पेंशन) तीन लाख रूपए करने की अधिसूचना जारी कर दी है। जालान ने कहा, अब ईडीएलआई के तहत अधिकतम बीमा राशि 3.6 लाख रूपए हो जाएगी जिसमें अधिसूचना के तहत तय राशि पर 20 प्रतिशत (60,000 रूपए) का तदर्थ लाभ भी शामिल होगा। इसका अर्थ है कि यदि ईपीएफओ अंशधारक की मृत्यु होती है तो उनके परिवार को फिलहाल मिलने वाली 1.56 लाख रूपए की राशि जगह 3.6 लाख रूपए मिलेंगे।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.