modi
एजेंसी। नयी दिल्ली
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश के गरीबों के लिए जनधन योजना के तहत ‘रूपे कार्डÓ शुरूआत करते हुए कहा कि क्या हमें इतनी ताकत नहीं है कि दुनिया के कुछ लोकप्रिय कार्ड की तरह हम इस कार्ड का सिक्का दूसरे देशों में जमा सकें। मोदी ने ‘प्रधानमंत्री जनधन योजनाÓ का आरंभ करते हुए ‘रूपे कार्डÓ को वैश्विक स्तर पर पहचान दिलाने की जोरदार पैरवी की। उन्होंने कहा, दुनिया के जो पापुलर वीजा कार्ड वगैरह हैं उससे हम परिचित हैं। क्या हम लोगों का यह इरादा नहीं रखना चाहिए कि हमारा रूपे कार्ड दुनिया के किसी भी देश में चल सके। क्या हमारी इतनी ताकत नहीं होनी चाहिए। इतनी विश्वसनीयता होनी चाहिए या नहीं होनी चाहिए। मोदी ने कहा, जैसे अमीर लोग रेस्तरां में खाना खाने के बाद कार्ड से पैसे देते हैं उसी तरह मेरा गरीब भी कार्ड से डेबिट करवाएगा। जो सब्जी बेचता होगा वो भी। अमीर और गरीब के बीच खाई भरने का कितना बड़ा कदम है। आज जब गरीब आदमी के हाथ में मोबाइल होता है तो वो भी अपने आपको दूसरों के बराबर समझता है। अब यह होगा कि उसके पास भी कार्ड और मेरे पास भी कार्ड है। इस मिजाज से काम करेगा। इससे एक मनोवैज्ञानिक परिवर्तन आता है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.