स भी यूनिवर्सिटी में विशेष तौर पर बनाने होंगे वॉशरूम, रेस्टरूम
यूनिवर्सिटी ग्रांट कमिशन (यूजीसी) ने सभी यूनिवर्सिटीज को निर्देश कर कहा है कि वह अपने यहां एडमिशन लेने वाले ट्रांसजेंडर (थर्ड जेंडर) के लिए कै पस में फ्रेंडली माहौल विकसित करें. यूजीसी ने साफ कहा है कि स ाी यूनिवर्सिटी इनके लिए अपने यहा ाासतौर पर विशेष वॉशरूम और रेस्टरूम की व्यवस्था करे. साथ ही यह ाी ऑर्डर दिया है कि ट्रांसजेंडर के लिए कैंपस में ायमुक्त वातावरण बनाया जाए. जहां पर ायमुक्त ढंग से पढ़ाई करने के साथ उनके साथ कै पस में किसी तरह का कोई ोद ााव न हो. अगर कै पस में इनके साथ कुछ भी सामाजिक भेद भाव होता है तो इसकी पूरी जिम्मेदारी यूनिवर्सिटी प्रशासन की होगी.
ट्रांसजेंडर क युनिटी और कल्चर पर होगा रिसर्स:-
यूजीसी ने अपने ऑर्डर में कहा है कि अब मेजर रिसर्च प्रोजेक्ट के तहत स भी यूनिवर्सिटी में ट्रांसजेंडर क युनिटी और कल्चर पर रिसर्च कर सकेगा. इसके लिए यूजीसी की ओर से ाी यूनिवर्सिटी को विशेष तौर पर मदद प्रदान की जाएगी. स ाी यूनिवर्सिटी को अपने यहां ट्रांसजेंडर के लिए इन सभी व्यवस्थाओं को बेहतर ढंग से लागू करवाना होगा. यूजीसी के सचिव प्रो. जसपाल एस संधु के अनुसार ट्रांसजेंडर के लिए यूनिवर्सिटीज में विशेष व्यवस्थाएं करनी होंगी. यूनिवर्सिटीज को इस बात पर विशेष ध्यान देना होगा कि उनके यहां पर पढऩे वाले ट्रांसजेंडर स्टूडेंट्स केलिए भयमुक्त माहौल मिले. उन्हें क्लासरूम, कैंटीन, लाइब्रेरी और कैंपस में एक-विभाग से दूसरे विभाग में जाने पर कहीं कोई किसी भी तरह की अभद्रता व भेदभाव न हो. बात दे कि पिछले साल 15 अप्रैल 2014 को सुप्रीम कोर्ट की ओर से हुए ऐतिहासिक फैसले में ट्रांसजेंडर (थर्ड जेंडर) को मान्यता दी थी और सभी को निर्देश दिए थे. प्रो. संधु के अनुसार मेजर रिसर्च प्रोजेक्ट के तहत अब यूजीसी टीचर्स को ट्रांसजेंडर क युनिटी एंड कल्चर पर रिसर्च करने के लिए प्रोत्साहित करेगी. यूनिवर्सिटी के टीचर सोशाइटी के लिए काम कर रहे लोगों के साथ मिलकर ज्वाइंट रिसर्च भी कर सकते हैं.
यूनिवर्सिटीज में 21 को मनाया जाएगा मातृभाषा दिवस:-
यूजीसी ने सभी यूनिवर्सिटीज को निर्देश दिए हैं कि वह 21 फरवरी को अपने यहां पर मातृभाषा दिवस मनाएं और स्टूडेंट्स को गर्व से अपनी मातृभाषा में बोलने के लिए प्रेरित करें. खासकर अंग्रेजी मीडियम के स्टूडेंट्स को हिन्दी भाषा सीखने केलिए विशेष रूप से प्रोत्साहित करें. स्टूडेंट्स को दूसरी विदेश भाषा से हिन्दी में ट्रांसलेशन के लिए प्रेरित.करें. 21 फरवरी को मातृभाषा दिवस के मौके पर एकल गीत, समूह गीत, सामान्य ज्ञान, पोस्टर प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी.

ugc_s_6790

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.