downloadविदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आज चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से यहां मुलाकात की और शी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनके (शी के) बीच हाल में हुए समझौतों को लागू करने के अलावा द्विपक्षीय संबंधों के विकास के लिए चीन और भारत ने ठोस कदम उठाए हैं। विदेश मंत्री के रूप में अपनी पहली चीन यात्रा पर आईं सुषमा ने शी से भव्य ग्रेट हॉल ऑफ पीपुल में मुलाकात की। इस मौके पर शी ने सुषमा से कहा, मुझे चीन-भारत संबंधों को लेकर पूरा विश्वास है और मेरा मानना है कि इस साल द्विपक्षीय रिश्तों के विकास में अच्छी प्रगति हासिल होगी। शी ने कहा कि सितंबर में हुई उनकी भारत यात्रा के बाद से दोनों देशों के रिश्तों ने एक नए दौर में प्रवेश किया है।
शी ने 62 वर्षीय भाजपा नेता और भारतीय विदेश मंंत्री का स्वागत किया और कहा, भारत-चीन संबंधों का सकारात्मक पक्ष विकसित हो रहा है और प्रधानमंत्री मोदी तथा मेरे बीच हुए समझौतोंं के कार्यान्वयन के लिए उठाए गए ठोस कदमों के साथ हमारे सहयोग की गति तेज हो रही है। एक ऐसा ठोस कदम कल उठाया गया जब दोनों देशों ने जून तक सिक्किम के रास्ते तिब्बत में कैलाश-मानसरोवर यात्रा के लिए दूसरा मार्ग खोलने के तौर-तरीकों को लेकर दस्तावेजों का आदान प्रदान किया। इससे अधिक संख्या में भारतीय कैलाश मानसरोवर की यात्रा कर पाएंगे। शी ने पिछले साल अपने पहले भारत दौरे में मोदी से यह नया रास्ता खोलने का वादा किया था। अपने भारत दौरे की यादें साझा करते हुए शी ने सुषमा से कहा, पिछले साल सितंबर में मैंने भारत की यात्रा की और मैं सरकार (भारत सरकार) और भारत के लोगों के शालीन आतिथ्य की यादें संजोए हुए हूं। उन्होंने कहा, विशेषकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के गृह राज्य के दौरे की यादें अब भी मेरे मन में ताजा हैं। राष्ट्रपति शी (61 साल) सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव भी हैं। उन्होंने भारतीय नेतृत्व को शुभकामनाएं दीं। चीन यात्रा पर आईं किसी विदेश मंत्री के साथ दुर्लभ मुलाकात में उन्होंने कहा, जब आप स्वदेश लौटें तो कृपया राष्ट्रपति (प्रणब) मुखर्जी और प्रधानमंत्री मोदी को मेरी ओर से हार्दिक शुभकामनाएं कहें।Ó
सुषमा ने कहा, प्रधानमंत्री मोदी ने चीनी नववर्ष :लूनर ईयर ऑफ शीप: के लिए शुभकामनाएं भेजी हैं, मुझे बताया गया है कि लूनर ईयर ऑफ शीप रचनात्मकता एवं नवाचार से जुड़ा हुआ है…आपका :शी का: भारत दौरा भी रचनात्मकता और नवाचार से जुड़ा था जिनके आधार पर दोनों देशों ने आगे बढऩे के नए रास्तों की संभावना तलाश की। उन्होंने कहा, ‘आपके सितंबर दौरे का भारत के लोगों के लिए विशेष महत्व है, खासकर मेरे लिए क्योंकि हमारी पहली मुलाकात उस यात्रा के दौरान हुई। सुषमा ने कहा कि दोनों देशों के बीच के रिश्तों को बेहतर बनाने के लिए नए रास्ते तैयार किए गए हैं। चार दिनों की यात्रा पर यहां आईं सुषमा ने कल अपने चीनी समकक्ष वांग ई के साथ प्रमुख मुद्दों पर लंबी बातचीत की थी और जोर दिया था कि संबंधों में विकास के लिए सीमा पर शांति कायम रखना जरूरी आधार है। यह भी घोषणा की गई थी कि प्रधानमंत्री मोदी 26 मई से पहले चीन का ‘ठोस नतीजों से परिपूर्णÓ दौरा करेंगे। 26 मई को ही भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार का एक साल पूरा होगा। प्रधानमंत्री के गृह राज्य गुजरात में मिले अपने शानदार आतिथ्य को देखते हुए शी मोदी को अपने गृह प्रांत शांक्शी की राजधानी शियान के दौरे पर ले जा सकते हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.