कांग्रेस ने दिल्ली विधानसभा की नई दिल्ली सीट से अरविंद केजरीवाल के खिलाफ दिल्ली की पूर्व मंत्री किरन वालिया को मैदान में उतारने का निर्णय किया है। वैसे इस सीट से केजरीवाल को उनकी पुरानी सहयोगी शाजिया इल्मी से भी टक्कर मिल सकती हैं। पूर्व आप नेता इल्मी के बीजेपी में शामिल होने का खबरें गर्म हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में केजरीवाल ने यहां तत्कालीन सीएम नेता शीला दीक्षित को करारी शिकस्त दी थी।

कांग्रेस ने बुधवार को दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए 21 उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट जारी कर दी। इस तरह कुल 45 उम्मीदवारों की घोषणा हो चुकी है। सूची में कांग्रेस की कैंपेन कमिटी के मुखिया अजय माकन को सदर बाजार से, महाबल मिश्रा को द्वारका, डॉ. योगानंद शास्त्री को मालवीय नगर, जिले सिंह चौहान को बुराड़ी, रीता शौकीन को मुंडका, सुरेश कुमार को जनकपुरी से टिकट मिला है।

हरिशंकर गुप्ता को वजीरपुर, सुरेंद्रपाल सिंह को तिमारपुर, प्रत्युशकांत को किराड़ी, सुखबीर शर्मा को रोहिणी, सुलेख अग्रवाल को शालीमार बाग, अनिल भारद्वाज को त्रिनगर, कंवर करण सिंह को मॉडल टाउन, मदन खोरवाल को करोल बाग(एससी), नंद किशोर सहरावत को विकासपुरी, सुमेश शौकीन को मटियाला से टिकट मिला है।

जय किशन शर्मा को नजफगढ़, विजय सिंह लोचाव को बिजवासन, संदीप तंवर को दिल्ली कैंट, नीरज बसोया को कस्तूरबानगर, लीलाधर भट्ट को आरके पुरम, राजेश चौहान को देवली (एससी), चौधरी प्रेम सिंह को अंबेडकर नगर (एससी), ब्रह्मपाल को त्रिलोक पुरी (एससी), अमरीश सिंह गौतम को कोंडली (एससी) से टिकट मिला है।
शाजिया इल्मी के बीजेपी में शामिल होने के कयास काफी समय से लगाए जा रहे हैं। दिल्ली बीजेपी से जुड़े सूत्रों ने बताया कि इल्मी गुरुवार को बीजेपी में शामिल हो सकती हैं। पार्टी उन्हें केजरीवाल के खिलाफ नई दिल्ली विधानसभा सीट से उम्मीदवार बना सकती है। हालांकि इल्मी ने कहा कि वह इन खबरों की न तो पुष्टि करेंगी और न ही इन्हें खारिज करेंगी। इस बारे में अरविंद केजरीवाल का कहना है कि इल्मी स्वतंत्र हैं और जहां से चाहें चुनाव लड़ सकती हैं। इल्मी की हालिया गतिविधियों को देखते हुए बीजेपी ने शामिल होने का कदम खास चौंकाने वाला नहीं होगा।

AAP से अलग होने के बाद से शाजिया खुले तौर पर केजरीवाल और आम आदमी पार्टी की आलोचना कर रही थीं। प्रधानमंत्री मोदी के स्वच्छ भारत अभियान के लिए उन्होंने बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश उपाध्याय के साथ झाड़ू उठाई थी। इस मौके पर उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ भी की थी। इल्मी ने 2014 में गाजियाबाद से आप के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ा था लेकिन बुरी तरह से हार गई थीं।

बीजेपी चाहे जिसे भी मैदान में उतारे केजरीवाल को वालिया से कड़ी टक्कर जरूर मिलेगी। सूत्रों ने बताया कि शुरुआत में वालिया नई दिल्ली सीट से चुनाव लड़ने की इच्छुक नहीं थीं, लेकिन बाद में पार्टी के निर्देश पर वह मान गईं। शीला दीक्षित सरकार में किरण वालिया स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री थीं। 2013 के विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी के सोमनाथ भारती ने उन्हें मालवीयनगर निर्वाचन क्षेत्र में पराजित किया था। वालिया ने 1999, 2003 और 2008 में यह सीट जीती थी।ilmi

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.