भारतीय ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने स्वीकार किया कि उनके गेंदबाज चौथे और अंतिम टेस्ट मैच के चौथे दिन अंतिम सत्र में ढेरों रन लुटाने के दोषी है जिसके कारण ऑस्ट्रेलिया अपनी बढ़त 348 रन तक ले जाने में सफल रहा।

भारत ने अंतिम सत्र में 213 रन दिये जिससे ऑस्ट्रेलिया अपनी दूसरी पारी में 40 ओवरों में छह विकेट पर 251 रन बनाने में सफल रहा। भुवनेश्वर कुमार के साथ नयी गेंद संभालने वाले अश्विन ने 105 रन देकर चार विकेट लिये लेकिन वह भी खासे महंगे साबित हुए।

अश्विन ने मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, हमने वास्तव में बहुत अधिक रन लुटाये। हम इतने अधिक रन नहीं देना चाहते थे। उन्होंने कुछ अच्छे शॉट खेले। हमने नई गेंद से बहुत खराब शुरुआत की। यदि ऐसा नहीं होता तो मैच की स्थिति भिन्न होती। जिस तरह से हमने दबाव बनाया था, जिस तरह से गेंद स्पिन ले रही थी उससे काफी अंतर पैदा किया जा सकता था।

उन्होंने कहा, इसके बावजूद कल के लिये मैच काफी हद तक बराबरी पर है। वे निश्चित तौर पर अपनी सिर ऊंचा रख सकते हैं लेकिन हमें देखना होगा कि आगे क्या होता है। हमने एडिलेड में (चौथी पारी में) बहुत अच्छी बल्लेबाजी की थी। जब मैं बल्लेबाजी कर रहा था विकेट बुरा नहीं था। मुझे रन बनाने में थोड़ी मुश्किल हो रही थी लेकिन यह नई गेंद वाला विकेट है।

अश्विन ने अपना चौथा अर्धशतक जमाया और फिर अच्छी गेंदबाजी की। उनको लगता है कि मैच रोमांचक स्थिति की तरफ बढ़ रहा है।

अश्विन ने कहा, जब मैं बल्लेबाजी कर रहा था तो मैं लंबे समय तक टिके रहने पर ध्यान दे रहा था। मैं अधिक से अधिक ओवर खर्च करना चाहता था और यह सुनिश्चित करना चाहता था कि यदि कोई टीम जीते तो वह भारत की हो। भाग्यवश या दुर्भाग्य से मैच अब भी रोमांचक स्थिति में है। आप नहीं जानते कि यह किस तरफ जाएगा और यह सब उनकी रणनीति पर निर्भर करेगा।

अपने चार विकेट के बारे में उन्होंने कहा, जब आप मेहनत करते हो तो फिर आपको उसके अच्छे परिणाम मिलते हैं और इससे खुशी होती है। मुझे लगा कि यह मौका है जबकि मैं टीम के लिये कुछ कर सकता हूं।
अश्विन ने कहा, मैं दूसरे छोर से अधिक नियंत्रित गेंदबाजी चाहता था और ऐसा होता तो बेहतर रहता लेकिन वे भी हम पर हावी होकर खेलना चाहते थे। मेरे कहने का मतलब है कि आपको उन्हें श्रेय देना होगा। उन्होंने सकारात्मक बल्लेबाजी की। वे खेल को अगले स्तर पर ले जाना चाहते थे जो कि अच्छी निशानी है।

उन्होंने कहा, उन्होंने हमें निशाना बनाया और हमने नई गेंद से बहुत खराब गेंदबाजी की। हमें यह स्वीकार करना होगा कि जब हम विकेट ले रहे थे तो दूसरे छोर से 15-16 रन भी दे रहे थे। इससे हमें कोई मदद नहीं मिली।

अश्विन ने कहा, इससे नये बल्लेबाज यह सोचता कि वह रन बना सकता है। उनके पास गंवाने के लिये कुछ नहीं था और टीम ने उन्हें बेपरवाह बल्लेबाजी करने की छूट दे दी थी। जब गेंद थोड़ी स्पिन ले रही थी तब हमने देखा कि जो बर्न्स क्या कर सकता है।

उन्होंने कहा, हमें अब आगे के बारे में सोचना होगा। यह ऐसा विकेट है जिसमें यदि आप पूरी प्रतिबद्धता से खेलोगे तो आपको आउट करना मुश्किल होगा। आपको अपने विकेट की कीमत समझनी होगी। हम यहां सकारात्मक क्रिकेट खेलेंगे। हम यहां जीतने के लिये आये हैं। यदि हमें जीत का मौका मिलता है तो हम इसके लिये कोशिश करेंगे।ashwin

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.