बीजेपी सांसद सांसद साक्षी महाराज ने एक बार फिर विवादित बयान देकर पार्टी आलाकमान की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। वेस्ट एंड रोड पर आयोजित संत समागम में भाग लेने पहुंचे साक्षी महाराज ने पर कहा कि घर वापसी में कोई बुराई नहीं है। यह चलती रहेगी। वह इतने पर ही नहीं रुके। कहा कि अगर देश को बचाना है तो हिंदू  कम से कम पांच बच्चे पैदा करें।

सिद्धपीठ संकटमोचन हनुमान श्रीबालाजी एवं शनि शक्तिपीठ शनिधाम मंदिर मेरठ कैंट द्वारा आयोजित द्वितीय संत समागम में आए साक्षी महाराज पूरे रंग और तेवर में नजर आए और आते ही कहा कि अच्छे दिन आ गए हैं। अब इस देश में चार बीबी और चालीस बच्चे नहीं चलेंगे। गद्दारों को देश में रहने नहीं देंगे। गौवंश वध करने वालों को फांसी होगी। कहा कि धर्मपरिवर्तन के पक्ष में न मैं हूं, न पार्टी। इसके खिलाफ कठोर कानून आना चाहिए। लेकिन जहां तक ‘घर वापसी’ का मामला है, इसमें क्या बुराई है? यह तो अच्छा काम है। महर्षि दयानंद सरस्वती ने सबसे पहले घर वापसी करवाया था। ‘घर वापसी’ व ‘शुद्धीकरण’ लगातार चलता आ रहा है, आगे भी चलता रहेगा।

साक्षी महाराज ने कहा सरकार ने पहले नारा दिया ‘छोटा परिवार सुखी परिवार’। फिर नारा दिया गया, ‘हम दो हमारे दो’, आप लोगों ने मान लिया। फिर सरकारी नारा आया ‘बेटा-बेटी एक समान, हम दो हमारे एक’, इस पर अमल करते जा रहे हैं, जबकि दूसरे लोग पुरानी रफ्तार बनाए हुए हैं। तभी हिदूं धर्म बच पाएगा। अब स्थिति खतरनाक होती जा रही है, सो ङ्क्षहदू कम से कम पांच बच्चे पैदा करें। इससे पूर्व साध्वी प्राची के भाषण में भी तेवर तीखे रहे। घर वापसी अभियान का पुरजोर समर्थन किया।

नाथूराम गोडसे की मूर्ति पर किए गए सवाल पर उन्होंने कहा, ‘भारत में लोग किसी की भी पूजा कर सकते हैं। लोगों को तो कुत्तों और गधों में भी भगवान दिखते हैं।’

साक्षी महाराज के मुताबिक, ‘लोग घबराए हुए हैं हम पत्रकार बंधुओं से कहना चाहेंगे क्या हो गया हम कुछ भी बोल दें ये तुरंत चला देते हैं। साक्षी जी ने ऐसा बोल दिया हम आह भी भरें तो हो जाते हैं बदनाम वो कत्ल भी कर दें तो चर्चा नहीं होती। हम कोई गद्दार तो हैं नही जो गद्दारी की बात करें, चाहे हिंदू हो, मुसलमान हो, चाहे सिख हो, चाहे ईसाई हो जो गद्दार है उसको देश में रहने का अधिकार नहीं है।’

mhraj

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.