इस साल पद्म विभूषण पुरस्‍कार के लिए नामित लोगों के नामों में से कुछ नाम वर्तमान केंद्र सरकार से प्रेरित दिख रहे हैं. देश के दूसरे सबसे बड़े पुरस्‍कार पद्म विभूषण के लिए पूर्व उप प्रधानमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्‍ठ नेता लाल कृष्‍ण आडवाणी का नाम भी शामिल हो सकता  है. वहीं योग गुरू बाबा रामदेव का नाम भी इस साल पद्म विभूषण लेने वाले लोगों में गिना जा रहा है.
जानकारी के मुताबिक पद्म विभूषण से सम्मानित होने वाले गणमान्‍य लोग में पंडित वामदेव शास्‍त्री (डेविड फ्रॉली)  के नाम पर भी अटकलें लगायी जा रही हैं. इस दौरान खेल मंत्रालय ने पद्म विभूषण के लिए मशहूर बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल के नाम की भी सिफारिश की है. इस पुरस्‍कार के लिए बैडमिंटन खिलाड़ी की नाराजगी को  देखते हुए खेल मंत्रालय ने स्‍पेशल केस के तहत उनके की सिफारिश कर दी है. हालांकि पद्म विभूषण पुरस्‍कार के लिए सिफारिश की अंतिम तिथि‍ 15 सितंबर थी. जो कब की गुजर चुकी है.
बहरहाल, साइना का कहना है कि उन्‍हेंने कभी भी प्रतिष्ठित पुरस्‍कार के लिए मांग नहीं की थी. साइना ने कहा कि ‘मीडिया ने जिस तरह यह पेश किया कि मैंने पुरस्‍कार की मांग की है, यह मुझे बिल्‍कुल पसंद नहीं आया.  मैं एक खिलाड़ी हूं, और अपने देश के लिए खेलती हूं. मैं बस इतना जानना चाहती थी कि इस पुरस्‍कार के लि‍ए मेरा नाम चयनित क्‍यों नहीं किया गया. अंत में पैनल जो निर्णय लेगा मैं उसका सम्‍मान करुंगी.’
ज्ञात हो कि साइना को 2010 में पद्म पुरस्‍कार मिल चुका है और आगे उच्‍च पद्म पुरस्‍कार पाने के लिए कम से कम 5 साल की समयसीमा पार करनी होगी. फिलहाल अगर अवार्ड कमिटी साइना के लिए इस पुरस्‍कार की घोषणा कर देती है तो कमिटी को अपवाद के रूप में सारे नियमों को ताख पर रखकर यह फैसला लेना होगा.
बीते 25 दिसंबर को भाजपा सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपायी और महामना मदन मोहन मालवीय का नाम  देश के सर्वोच्‍च्‍ा सम्‍मान भारतरत्‍न के लिए नामित किया गया था. ramdev

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.