नई दिल्ली। रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार रेलवे बोर्ड के अफसर रवि मोहन शर्मा के आवास के पास नाली से सीबीआइ ने 10 लाख रुपये बरामद किए हैं। सीबीआइ ने रिश्वत देने वाले टूर ऑपरेटर राजेश चंपकलाल जोधानी और कुलिन कुमारपाल शाह को मुंबई से गिरफ्तार किया है। सीबीआइ की विशेष अदालत ने शर्मा को चार दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया है।

सूत्रों ने बताया कि सीबीआइ की टीम जब 22 अक्टूबर को पांच लाख रुपये की कथित रिश्वत लेते शर्मा की गिरफ्तारी के लिए उनके आवास पर पहुंची थी तभी उनके रिश्तेदारों ने खतरे को भांप लिया था। जब तक सीबीआइ के अधिकारी रोकते उसके पहले ही उन्होंने रुपये की गड्डियां नाली में बहा दी थीं।

सीबीआइ के सूत्रों ने बताया कि एजेंसी के अधिकारी मजदूरों के साथ अब भी जुटे हुए हैं और वे सीवेज वाली नाली को खुदाई करा रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि अब तक दस लाख रुपये नाली से बरामद हो चुके हैं। उनका कहना है कि रेलवे बोर्ड के सदस्य महेश कुमार की गिरफ्तारी के बाद यह दूसरी सबसे बड़ी गिरफ्तारी है। महेश कुमार मलाईदार पद के लिए कथित रूप से 90 लाख रुपये घूस देते गिरफ्तार किए गए थे। शर्मा रेल यातायात सेवा के 1997 बैच के अधिकारी हैं। सीबीआइ ने उन्हें तब गिरफ्तार किया था जब वह मुंबई के एक टूर ऑपरेटर से हवाला के जरिये पांच लाख रुपये घूस ले रहे थे। एजेंसी अब शर्मा के रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों से संपर्को का पता लगा रही है, खासकर जो सूरत से हरिद्वार जाने वाली विशेष ट्रेन में अतिरिक्त कोच की स्वीकृति देने में शामिल हैं। शर्मा यदि पैसे का स्त्रोत नहीं बता पाते हैं तो केंद्रीय जांच एजेंसी उनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज करने की भी तैयारी में है।25_10_2014-cbi25

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.