अलकायदा के सबसे बड़े आतंकी ओसामा बिन लादेन के मारे जाने के बाद उसकी लाश को समुद्र में डुबा दिया गया. लेकिन ओसामा के शव को डुबाने में बहुत सावधानी बरती गयी है. ओसामा को दफनाने की पूरी कहानी का  खुलासा सीआईए के पूर्व निदेशक और पूर्व रक्षा मंत्री लियोन पेनेटा ने किया है.

ओसामा बिन लादेन के एटबाबाद में अमेरिकी विशेष बलों द्वारा मारे जाने के बाद उसके शव को जिस काले बैग में रखकर डुबाया गया उसके भीतर 300 पाउंड वजन की लोहे की जंजीरे भी यह सुनिश्चित करने के लिये रखी गयी कि वह डूब जाय.  दुनिया के सबसे वांछित आतंकी ओसामा को गोली मारे जाने के बाद तयशुदा तरीके से उसके शव को समुंदर में दफनाने के लिए विमानवाहक पोत यूएसएस कार्ल विंसल तक ले जाया गया.

पेनेटा ने आज किताबों की दुकान में पहुंची अपनी नवीनतम पुस्तक, ‘वर्दी फाइट्स : ए मेमोइर ऑफ लीडरशिप इन वार एंड पीस’ में लिखा है, ‘‘बिन लादेन के शव को मुस्लिम रस्मों के मुताबिक दफनाने की तैयारी की गयी. शव को सफेद चादर से ढका गया, अरबी में अंतिम प्रार्थना हुयी और फिर काले रंग के भारी बक्से में रखा गया.’’
उन्होंने लिखा है, ‘‘इसके साथ ही तीन सौ पाउंड की लोहे की जंजीरों को उसके भीतर डाला गया जिससे सुनिश्चित हो सके कि शव डूब जाए.’’  जगह का उल्लेख किये बिना पेनेटा ने लिखा है, ‘‘बैग में रखे शव को जहाज पर एक सफेद मेज रखा गया. इसके बाद शव को समुद्र में छोड दिया गया. यह बहुत भारी था. मेज भी गिर गयी. जैसे ही शव डूबा मेज सतह पर आ गयी.’’ osama bin laden

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.