फिल्मी डॉयलॉग का बोलचाल की भाषा में चलन. दोस्तो के साथ हँसने और हँसाने के लिए करते है इस्तेमाल.


गब्बर और कालिया जैसे नामकरण भी हो जाते है. स्टाइल के साथ-साथ डॉयलॉग की भी करते है कॉपी

पीयूष दुबे
लखनऊ।

अपनी दुनिया में मस्त रहने वाले युवाओं को कुछ नयाऔर हट कर करने में बड़ा मजा आता हैं। चाहे वो पढ़ाई के क्षेत्र कीबात हो या फिर शरारत की हर जगह कुछ खास करते हैं। यही नहींहर समय कुछ नया करने और सोचने को बेताब रहते हैं। इन्हें जैसे ही कुछ नया देखने या सुनने को मिलता है, उसे वो तुरन्त अपना लेते हैं। ऐसा ही कुछवो फिल्मों में बोले गये डॉयलॉग के साथ करते हैं। जिसे दोस्तो के साथ हँसने-हँसाने के लिए खूब इस्तेमाल किया जाता है। क•ाी कॉलेज में बात करतेहुए तो क•ाी मॉल में खड़े हुए, जहां •ाी इनकी बात होती है वहां डॉयलॉग जरूर बोले जाते हैं।

पहले से ही युवाओं में फिल्मों के डॉयलॉग कॉपी करने का चलन चलता आ रहा है, क•ाी अमिता•ा बच्चन का ‘रिश्ते में तो हम तुम्हारे बाप लगते है,नाम है शहंशाह’ जैसा •ाारी-•ारकम गं•ाीर सा डॉयलॉग तो क•ाी अनिल कपूर की टपोरी जैसी फिल्मों में बोले डॉयलॉग ‘झक्कास’ इन सबकोअपनी आम बोलचाल की •ााषा में इस्तेमाल करना उन्हें काफी अच्छा लगता हैं। बॉलीवुड में इस तरह की रफ डॉयलॉग का एक इतिहास रहा हैं। इनफिल्मों के डॉयलॉग या शब्द इतने पंसद किये गये कि इन्हें उस दौर के युवाओं ने अपनी •ााषा में ही शामिल कर लिया। ये डॉयलॉग बोलने का चलनपुराना तो है लेकिन अ•ाी खत्म नहीं हुआ है। आज की नई जनरेशन •ाी इस काम को करने में उतनी ही माहिर हैं। अमिता•ा बच्चन, अनिल कपूरके डॉयलॉग तो पुराने हो चुके तो अब शाहरूख खान और सलमान खान के डॉयलॉग बोले जाते हैं। क•ाी किसी दोस्त ने रोना शुरू किया तो चुप करानेके लिए बोल देते है शाहरूख की हिट फिल्म की लाइन ‘मैं हूँ ना’ । फिल्म दंबग में सलमान ने ‘•ांयकर’ शब्द का इस्तेमाल अपनी नायिका के लिएकिया तब से ये शब्द युवाओं के जुबाँ पर फेविकॉल सा चिपक चुका है। वैसे तो •ांयकर शब्द का इस्तेमाल डरावनी चीज से लगाते है लेकिन फिल्म मेंसलमान ने इस शब्द से खूबसूरती का बखान किया है।

हालाँकि इन लाइन और डॉयलॉग को बोलने पर क•ाी-क•ाार डॉट •ाी पड़ जाती है लेकिन जो जुबान पर चढ़ गया है, वो •ाला डॉटने से कहाजाने वाला है। शहंशाह में अमिता•ा ने हर 15 मिनट के बाद ‘रिश्ते में तो हम तुम्हारे बाप लगते है, नाम है शहंशाह’ बोला तो हर युवा की जुबाँ पर यहलाइन ऐसी चढ़ी कि आज •ाी मजाक के मूड में खड़े दोस्त किसी को चिढ़ाने के लिए ये लाइन जरूर बोलते हैं। तो क•ाी दोस्तो को हँसाने के लिएबोला जाता है कि ‘छोड़ दो मुझे,•ागवान के लिए छोड़ दो’ या फिर बड़े जोश में बोलते है ‘कानून के हाथ बहुत लम्बे होते हैं’। कैन्टीन में लगी लम्बीलाइन में बहस हुई नहीं कि दाग दिया एक डॉयलॉग ‘हम जहाँ खड़े होते है, लाइन वहीं से शुरू होती है’। यही नहीं कही पंगा हो गया तो फट से बोलते है’अगर माँ का दूध पिया है तो सामने आ’ नहीं तो ‘कमीने, कुत्ते मै तेरा खून पी जाऊगां’ बोल के मजाक उड़ाते हैं।

इतना ही नहीं दोस्तो का नामकरण •ाी फिल्मी कैरेक्टरों पर किया जा रहा है। क्लास का कोई खडूस लड़का हो तो मशहूर फिल्म शोले का खतरनाककैरेक्टर गब्बर सिंह के नाम से पुकारा जाता है, तो कोई चंद्रकांता का क्रूर सिंह और न जाने कैसे-कैसे नाम से पुकारा जाता है। यह सब दोस्तो के आचरणऔर उनके चाल-चलन को देखते हुए ही किया जाता है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.