पाकिस्तान द्वारा संघर्ष विराम का उल्लंघन किए जाने के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए शिवसेना ने कहा कि उन्हें अपना ध्यान पड़ोसी देश की खुराफात को रोकने पर लगाना चाहिए न कि महाराष्ट्र की राजनीति पर। इस समय जब देश को प्रधानमंत्री के एक ठोस निर्णय की जरूरत है तब वह चुनाव प्रचार में जुटे हैं। भारतीय जवान पाक की गोलीबारी में मारे जा रहे हैं वहीं बेकसूर भारतीय नागरिक भी अपनी जान से हाथ धो रहे हैं। बुधवार पाकिस्तान की ओर से की गई गोलीबारी में दो महिलाओं की मौत हो गई, जबकि 25 अन्य जीवन मृत्यु से जूझ रहे हैं।
भाजपा की पुरानी सहयोगी रही शिवसेना ने दावा किया कि सीमापार से होने वाली गोलीबारी और गोलाबारी के खिलाफ कड़े कदम उठाने में सरकार के विफल रहने पर पाकिस्तान को बढ़ावा मिला है। शिवसेना ने कहा कि राष्ट्रीय हितों की सुरक्षा के लिए मोदी के कहे मुताबिक 56 इंच का सीना जरूरी नहीं हैए इसके लिए दरअसल मजबूत इच्छा शक्ति होनी चाहिए।
शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना के संपादकीय में लिखा है कि मोदी को एक ऐसे समय में राज्य में चुनावी रैलियों में व्यस्त रखा जा रहा है जबकि उनकी सबसे ज्यादा जरूरत केंद्र में है। यह भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा का अवमूल्यन करने जैसा है।
राज्य विधानसभा चुनावों से पहले महाराष्ट्र में भाजपा के लिए मोदी द्वारा किए जा रहे व्यापक प्रचार के संदर्भ में शिवसेना ने कहाए हम महाराष्ट्र की राजनीति के बारे में बाद में भी बात कर सकते हैं मोदी जीए लेकिन इस समय सबसे महत्वपूर्ण यह है कि हम हमारे पड़ोसी द्वारा की जा रही खुराफातों को सहन न करें।
शिवसेना ने कहा कि क्या राष्ट्र के हितों की सुरक्षा के लिए और पाकिस्तान को उसके कुकर्मों के लिए सबक सिखाने के लिए आपको 56 इंच का सीना चाहिएए उन्हें वापस इतना ही कड़ा जवाब देने के लिए आपको मजबूत इच्छा शक्ति चाहिए। शिवसेना ने कहा कि पाकिस्तान लगातार भारत की ओर गोलीबारी करने की हिम्मत जुटा रहा है क्योंकि भारत सरकार की ओर से कोई सख्त कदम नहीं उठाए जा रहे।

शिवसेना ने कहा कि यह बेहद दयनीय है कि सीमावर्ती इलाकों में भारतीय ग्रामीणों को पाकिस्तानी रेंजरों के हमले से अपनी सुरक्षा के लिए सुरक्षित स्थानों पर शरण लेने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। पाकिस्तान के हमलों के कारण हमारे लोगों के जीवन को तो खतरा है हीए साथ ही उनके मकान भी नष्ट हो रहे हैं। लगातार की जाने वाली गोलीबारी के कारण सीमा से चार किलोमीटर की दूरी तक के मकान बुरी तरह प्रभावित हुए हैं।

शिवसेना के मुखपत्र ने कहाए हमारे नागरिक अब मौत से बचने के लिए अपने घरों से दूर भाग रहे हैंए जो रात के अंधेरे में उन्हें दबोच सकती है। यह बेहद दयनीय है कि उन्हें इस तरह से अपने घर छोडऩे पड़ रहे हैं। बीते एक अक्टूबर से पाकिस्तान की ओर से संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए की जा रही गोलीबारी में अब तक सात लोग मारे गए हैं और लगभग 70 लोग घायल हो चुके हैं। इसके अलावा 16 हजार से ज्यादा लोग सुरक्षित स्थानों पर चले गए हैं।
जम्मू एवं कश्मीर के सांबा जिले में अंतर्राष्ट्रीय सीमा के पास पाकिस्तान की ओर से की गई गोलीबारी में दो महिलाओं की मौत हो गई, जबकि 25 अन्य घायल हो गए। अधिकारियों ने बताया कि पाकिस्तान ने मंगलवार रातभर गोलीबारी की और आज सुबह होने पर भी गोलीबारी बंद नहीं की।
एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तान की ओर से किए गए मोर्टार हमले में आज सुबह सांबा सेक्टर के चिलयारी गांव में दो महिलाओं की मौत हो गई और पांच अन्य लोग घायल हुए। अधिकारी ने कहाए कि घायलों को जम्मू के गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सीमा सुरक्षा बल ;बीएसएफद्ध पाकिस्तानी हमले का मुंहतोड़ जवाब दे रही है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.