टेनिस स्टार सानिया मिर्जा और साकेत माइनेनी ने मिश्रित युगल टेनिस में स्वर्ण जीता जबकि सीमा पूनिया ने चक्का फेंक में पीला तमगा अपने नाम किया जिससे भारत 17वें एशियाई खेलों के दसवें दिन पदक तालिका में फिर नौवें स्थान पर पहुंच गया।

इससे पहले पहलवान बजरंग और सनम सिंह तथा साकेत माइनेनी की पुरुष टेनिस युगल जोड़ी ने सोमवार को रजत पदक जीते। एथलेटिक्स में ओपी जैशा (महिला 1500 मीटर दौड़) और नवीन कुमार (पुरुषों की 3000 मीटर स्टीपलचेस) और पहलवान नरसिंह पंचम यादव (74 किग्रा) ने कांस्य पदक जीते। सानिया और साकेत की दूसरी वरीयता प्राप्त जोड़ी ने सिर्फ 69 मिनट तक चले फाइनल में शीर्ष वरीयता प्राप्त चीनी ताइपै के हाओ चिंग चान और सियेन यिन पेंग को 6-4, 6-3 से हराया।

माइनेनी इससे पहले सनम सिंह के साथ पुरुष युगल फाइनल में योंगक्यू लिन और हियोन चुंग की कोरियाई जोड़ी के हाथों सीधे सेटों में शिकस्त के साथ स्वर्ण नहीं जीत सके थे। पांचवीं वरीय भारतीय जोड़ी को खिताबी मुकाबले में आठवीं वरीय स्थानीय जोड़ी के हाथों 5-7, 6-7 से शिकस्त का सामना करना पड़ा। भारत ने इन खेलों की टेनिस स्पर्धा में एक स्वर्ण समेत पांच पदक जीते। युकी भांबरी ने पुरुष एकल में और युगल दिविज शरण के साथ कांस्य जीते जबकि सानिया और प्रार्थना थोंबरे ने महिला युगल में कांस्य जीता। सानिया के अब एशियाई खेलों में आठ पदक हो गए हैं।

ट्रैक पर आज का दिन सीमा के नाम रहा जिसने स्वर्ण जीतकर पिछले दो एशियाई खेलों से बाहर रहने का मलाल दूर कर लिया। दो चीनी खिलाड़ियों को हराकर अव्वल रही सीमा ने पिछले महीने ही ग्लास्गो राष्ट्रमंडल खेलों में रजत पदक जीता था। उसने पहले ही प्रयास में 55.76 मीटर का थ्रो लगाकर बढ़त बना ली थी। उसने चौथे प्रयास में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 61.03 मीटर का थ्रो फेंका।

कुश्ती में बजरंग (61 किग्रा) आज के हीरो रहे। उन्होंने अपने प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ पिछड़ने के बाद वापसी करते हुए फाइनल में जगह बनाई जहां उन्हें ईरान के मसूद महमूद के खिलाफ करीबी मुकाबले में हार के साथ कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा। पहलवानों ने भारत के लिए पदकों की संख्या में इजाफा किया जब नरसिंह यादव भी पुरुष 74 किग्रा फ्रीस्टाइल वर्ग में कांस्य पदक जीतने में सफल रहे।

भारत ने आज सात पदक जीते जिससे वह छह स्वर्ण, सात रजत और 29 कांस्य पदक सहित कुल 42 पदकों के साथ फिर नौवें स्थान पर पहुंच गया है। चीन ने कुल 238 पदक के साथ अपना दबदबा बरकरार रखा है जिसमें 112 स्वर्ण, 72 रजत और 54 कांस्य पदक शामिल है। मेजबान दक्षिण कोरिया कुल 146 पदक के साथ दूसरे जबकि जापान 132 पदक के साथ तीसरे स्थान पर है।sania~29~09~2014~1412001423_storyimage

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.