प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सम्मान में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने रात्रि भोज का आयोजन किया, जहां दोनों नेताओं ने भारत और अमेरिका के द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा की। ओबामा ने व्हाइट हाउस के द्वार पर गुजराती भाषा में ‘केम छो मिस्टर प्राइम मिनिस्टर’ कहकर मोदी का स्वागत किया। प्रधानमंत्री के साथ विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल, विदेश सचिव सुजाता सिंह और अमेरिका में भारतीय राजदूत एस.जयशंकर रात्रि भोज में शामिल हुए।

इसके साथ ही अमेरिका के उप राष्ट्रपति जो बिडेन, विदेश मंत्री जॉन केरी, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सुसैन राइस और अंतर्राष्ट्रीय विकास के लिए संयुक्त राज्य अमेरिकी एजेंसी (यूएसएआईडी) प्रमुख राजीव शाह सहित अमेरिकी नेताओं का दल रात्रि भोज में उपस्थित थे। हालांकि मिशेल ओबामा इसमें शामिल नहीं हुई।

मोदी अमेरिकी के रक्षा मंत्री चक हैगल से मुलाकात करेंगे। इससे पहले मोदी की अगवानी करने के लिए अमेरिकी डिप्टी सेक्रेटरी ऑफ स्टेट विलियम बर्न्‍स और दक्षिण एशिया के लिए असिस्टेंट सेक्रेटरी ऑफ स्टेट निशा बिस्वाल एंड्रयूज वायुसेना बेस पर उपस्थित थे। इसके अलावा करीब 100 मोदी समर्थक उनसे मिलने के लिए वायुसेना बेस पर पहुंचे। ब्लेयर हाउस छोडने से पूर्व मोदी ने समर्थकों से हाथ मिलाकर उनका अभिवादन स्वीकार किया।

ओबामा ने किया रात्रि भोज का आयोजन
राष्ट्रपति बराक ओबामा ने आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अपनी शिखर स्तरीय वार्ता से पहले, यहां व्हाइट हाउस में उनके लिए एक निजी रात्रि भोज का आयोजन किया। अनौपचारिक माहौल में रात्रि भोज दोनों नेताओं के लिए एक दूसरे के साथ संवाद करने का पहला अवसर है। बहरहाल, प्रथम महिला मिशेल ओबामा इस रात्रि भोज में शामिल नहीं हो पाईं।

रणनीतिक भागीदारी पर करेंगे चर्चा
अमेरिका भारत रणनीतिक भागीदारी को और अधिक गहरा करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा आज यहां होने वाली अपनी पहली शिखर बैठक में आर्थिक विकास को गति देने और सुरक्षा सहयोग बढ़ाने सहित विभिन्न मुददों पर चर्चा करेंगे। व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जोश अर्नेस्ट ने बताया कि दोनों नेता आर्थिक विकास को गति देने, सुरक्षा सहयोग बढ़ाने तथा ऐसी गतिविधियों में सहयोग के उपायों पर विचार विमर्श करेंगे जो दोनों देशों तथा विश्व के लिए दीर्घकालिक लाभकारी हो। उन्होंने कहा कि मोदी और ओबामा अफगानिस्तान, सीरिया और इराक के मौजूदा घटनाक्रम सहित विभिन्न क्षेत्रीय मुद्दों पर भी ध्यान केंद्रित करेंगे, जहां भारत और अमेरिका सकारात्मक परिणामों के लिए साझेदारों के साथ मिलकर काम कर सकते हैं।

मोदी का स्वागत सांस्कृतिक संबंधों का परिचायक
व्हाइट हाउस ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद मोदी को करीब 20,000 भारतीय अमेरिकी लोगों की ओर से प्रतिष्ठित मेडिसन स्क्वायर गार्डन में दिया गया रॉक स्टार जैसा सम्मान दोनों देशों के बीच गहरे सांस्कृतिक संबंधों का परिचायक है। व्हाइट हाउस के प्रेस सचिव जोश अर्नेस्ट ने कहा, मेरा मानना है कि स्वागत समारोह में भारी संख्या में लोगों की मौजूदगी और उनकी उत्साहजनक प्रतिक्रिया उन गहरे सांस्कृतिक संबंधों को दर्शाती है, जो अमेरिका और भारत के बीच मौजूद हैं। भारत से कई प्रवासी अमेरिका आये, जो अब देश भर के समुदाय के साथ घुलमिल गए हैं। उन्होंने यह बात उन करीब 20,000 भारत वंशियों की ऐतिहासिक मौजूदगी के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में कही जो देश के अलग अलग हिस्सों से रविवार को न्यूयार्क के प्रतिष्ठित मेडिसन स्क्वायर गार्डन में मोदी के स्वागत समारोह में शामिल होने के लिए एकत्र हुए थे।1~30~09~2014~1412049844_storyimage (1)

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.