cbiiनई दिल्ली। केंद्रीय जांच ब्यूरो के विशेष न्यायाधीश ओ पी सैनी ने 2जी मामले में अंतिम बहस के लिए 10 नवंबर की तारीक मुकर्रर की। उन्होंने इस मामले में बचाव पक्ष के गवाहों से जिरह पूरी कर ली है। न्यायाधीश ने 153 अभियोजन पक्ष के गवाहों और 29 बचाव पक्ष के गवाहों के बयान दर्ज कर लिए हैं।
न्याधीश ओ.पी. सैनी की अदालत ने कहा कि वह सीबीआई के उस आवेदन पर सुनवाई करेगी, जिसमें अभियोजन पक्ष के गवाह के रूप में कुछ और व्यक्तियों से जिरह की अनुमति मांगी गई है। सीबीआई ने अगस्त में एक अर्जी दाखिल कर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के उप निदेशक राजेश्वर सिंह और अन्य को अभियोजन पक्ष के गवाह के रूप में सम्मन भेजने का निर्देश जारी करने का अनुरोध किया था।
सीबीआई ने अदालत से कहा कि ईडी की जांच में कुछ नए खुलासे हुए हैं। ईडी ने 2जी मामले से संबंधित काले धन को सफेद करने के मामले में 19 लोगों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किए हैं। सीबीआई का आरोप है कि पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा ने दूरसंचार कंपनियों को 2जी स्पेक्ट्रम और संचालन लाइसेंस के वितरण में तरफदारी की थी, जिससे सरकारी खजाने को भारी नुकसान हुआ।
अदालत ने 22 अक्टूबर, 2011 को भारतीय दंड संहिता और भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों के तहत 14 लोगों के खिलाफ आरोप तय किए थे। इस मामले में राजा सहित सभी आरोपी जमानत पर जेल से बाहर हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.