al_zawahiri_18913 (1)नई दिल्ली। आतंकी संगठन अल कायदा की नजर अब भारत पर है। भारत में आतंक फैलाने के लिए दुनिया के सबसे खूंखार आतंकी संगठन अल कायदा ने एक नई शाखा को जन्म दिया है।
अल कायदा के मुखिया अल जवाहिरी ने एक वीडियो जारी कर कहा है कि वो भारत, म्यांमार और बांग्लादेश में अपने पैर पसारने के लिए नई शाखा बना रहा है। जवाहिरी के इस संदेश में कहा गया है कि भारत में वो कश्मीर, अहमदाबाद और आसाम में आतंकी गतिविधियों को बढ़ाना चाहता है।
55 मिनट के इस ऑनलाइन वीडियो में इस आतंकी संगठन ने भारतीय उपमहाद्वीप में अपनी गतिविधियां और जेहाद को बढ़ाने की इच्छा जाहिर की है। जवाहिरी ने वीडियो में उपमहाद्वीप में अपनी गतिविधियां बढ़ाने को मुस्लिमों के लिए खुश होने का अवसर करार दिया है। उसका कहना है कि संगठन बर्मा, बंगलादेश और कश्मीर के मुस्लिमों को अन्याय और अत्याचार से बचाएगा।
अफगानिस्तान के तालिबान नेता मुल्ला उमर के प्रति भी इस वीडियो में निष्ठा जताई है। जवाहिरी ने वीडियो में इस्लामिक स्टेट आतंकवादी संगठन को अलकायदा की प्रभुता को चुनौती देने के लिए धमकाया है।
विश्व के आतंकवाद निरोध विशेषज्ञों का कहना है कि अल जवाहिरी को अपने आतंकवादी समूह में भर्ती के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। साथ ही इस्लामिक स्टेट भी एक चुनौती के तौर पर इसके सामने है। इस्लामिक स्टेट के नेता अबू अबू बक्र अल बगदादी ने अपने को खलीफा घोषित करते हुए मुस्लिम समुदाय से निष्ठा की मांग की थी।
अल कायदा पाकिस्तान और अफगानिस्तान में सक्रिय है, जहां समझा जाता है कि इसका नेतृत्व छिपा हुआ है। लेकिन जवाहिरी ने कहा कि कायदात अल जिहाद का गठन आज नहीं हुआ, बल्कि यह दो सालों के प्रयास का नतीजा है कि भारतीय उपमहाद्वीप में मुजाहिद्दीनों को एक संगठन के अंदर लाया जाए। कायेदत अल जिहाद नाम से बना ये नया संगठन भारत के इन हिस्सों में पैर पसारने की तैयारी कर रहा है।
अलकायदा के नए वीडियो के सामने आने के बाद भारतीय सुरक्षा एजेंसियों ने देशभर में अलर्ट घोषित कर दिया है। आईबी ने सभी राज्यों को हाई अलर्ट भेजा है। आईबी का मानना है कि अलकायदा ने नए वीडियो के जरिए दूसरे आतंकी संगठनों जैसे इस्लामिक स्टेट और बोको हराम को एक संदेश देने की कोशिश की है कि अलकायदा अभी पूरी तरह से खत्म नहीं हुआ है। आईबी का मानना है कि जो वीडियो सामने आया है उसे देखते हुए कोई लापरवाही करना ठीक नहीं होगा।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.