1~26~08~2014~1409039129_storyimageकार्डिफ। एक के बाद एक विवादों से जूझ रही भारतीय क्रिकेट टीम आज दूसरे एकदिवसीय क्रिकेट मैच में इंग्लैंड के खिलाफ उतरेगी, तो यही उम्मीद करेगी कि मैदान के भीतर का प्रदर्शन सुर्खियों में रहे।
ब्रिस्टल में पहला वनडे बारिश की भेंट होने के बाद भारत मैच में उस प्रारूप में अपना दबदबा फिर कायम करना चाहेगा जिसमें पिछले कुछ साल से महेंद्र सिंह धौनी एंड कंपनी ने उम्दा प्रदर्शन किया है। मुख्य कोच डंकन फ्लेचर का समर्थन करने वाले अपने बयान के बाद बीसीसीआई हुक्मरानों को नाराज करने वाले कप्तान धौनी भी क्रिकेट पर फोकस करने की कोशिश में होंगे।
इस दौरे की खास बात यह भी रही कि धौनी ने अपने विचार काफी बेबाकी से रखे हैं। टेस्ट श्रृंखला में रविंद्र जडेजा-जेम्स एंडरसन मामले में भी यह देखा गया। हार के बाद भी उन्होंने संकेत दिया कि बतौर टेस्ट कप्तान उन्होंने अपनी भूमिका बखूबी निभाई। अब तीसरी बाद बोर्ड से उनकी ठन गई है। तनाव बढ़ते देख सभी यह दुआ कर रहे होंगे कि मौसम की गाज इस मैच पर नहीं गिरे और क्रिकेट हो सके।
भारतीय बल्लेबाजों की नजरें टेस्ट मानसिकता से निकलकर खुद को वनडे प्रारूप में ढालने पर है। धौनी, रोहित शर्मा और स्टुअर्ट बिन्नी ने नेट पर काफी मेहनत की।
भारतीयों के लिये दुर्भाग्य की बात यह है कि उन्हें कल ब्रिस्टल के छोटे मैदान पर खेलने का मौका ही नहीं मिला। यह भी आजमाया नहीं जा सका कि अंतिम एकादश का संयोजन क्या होना चाहिये। आमतौर पर अभ्यास सत्र में टीम उसी क्रम में बल्लेबाजी करती है जिसमें मैच में उतरना होता है लेकिन यहां नेट अभ्यास में ऐसा नहीं हुआ। संभव है कि यह मेजबान को भ्रमित करने की उसकी रणनीति रही हो।
धौनी ने मैच से पहले प्रेस कांफ्रेंस में भी कोई संकेत नहीं दिया लेकिन उन्होंने कहा कि रोहित शर्मा ने सलामी बल्लेबाज के रूप में अपने काम को बखूबी अंजाम दिया है। मिडिलसेक्स के खिलाफ अभ्यास मैच में शिखर धवन के साथ पारी की शुरूआत करने वाले रोहित का खेलना तय लग रहा है चूंकि उन्होंने रविवार को नेट पर काफी समय बिताया था। धवन ने भी रवि शास्त्री से लंबी बात की। शास्त्री ने विराट कोहली से भी लंबी बातचीत की।
फ्लेचर ने अपने खिलाड़ियों को अभ्यास करते बारीकी से देखा जिसके बाद धवन, रैना और अजिंक्य रहाणे को स्लिप में कैचिंग अभ्यास कराया। अतीत में स्लिप अभ्यास से टीम चयन का संकेत मिलता आया है लेकिन इस बार ऐसा नहीं लगता। अंबाती रायुडू ने सुरेश रैना के आने से पहले नेट पर काफी अभ्यास किया। उन्होंने धोनी और बाकी बल्लेबाजों को गेंदबाजी भी की।
रायडू ने न्यूजीलैंड में और बांग्लादेश में एशिया कप में भी गेंदबाजी की थी। भारत के लिये पांचवें या छठे नंबर पर कौन खेलेगा, यह भ्रम बना हुआ है। संजू सैमसन को फिलहाल मौका तभी मिल सकता है जब किसी कारणवश धोनी को बाहर बैठना पड़ जाये। ब्रिस्टल में वह टीम अभ्यास सत्र में मौजूद थे लेकिन सभी के अभ्यास के बाद उनकी बारी आई। वहीं कर्ण शर्मा ने गेंदबाजी और बल्लेबाजी दोनों का अभ्यास किया।
इंग्लैंड टीम में एलेक्स हेल्स का खेलना तय है, जिन्हें पहले वनडे की टीम में भी जगह मिली थी और उनका चयन 2015 विश्व कप को ध्यान में रखकर किया गया है।
भारत :
एम एस धौनी (कप्तान) , शिखर धवन, रोहित शर्मा, विराट कोहली, अजिंक्य रहाणे, सुरेश रैना, अंबाती रायडू, स्टुअर्ट बिन्नी, संजू सैमसन, आर अश्विन, रविंद्र जडेजा, कर्ण शर्मा, मोहित शर्मा, उमेश यादव, मोहम्मद शमी, धवल कुलकर्णी, भुवनेश्वर कुमार
इंग्लैंड :
एलेस्टेयर कुक (कप्तान), मोईन अली, जेम्स एंडरसन, गैरी बैलेंस, इयान बेल, जोस बटलर, स्टीवन फिन, हैरी गर्ने, एलेक्स हेल्स, क्रिस जोर्डन, ईयोन मोर्गन, जो रूट, बेन स्टोक्स, जेम्स ट्रेडवेल, क्रिस वोक्स।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.