gaza66न्यूयार्क। इजरायल तथा फिलिस्तीन के बीच चल रहे हिंसक संघर्ष का सबसे ज्यादा खामियाजा बच्चों को भुगतना पडा है। इस लडाई में गाजा पट्टी में 469 बच्चे मारे जा चुके हैं। यूनिसेफ की अधिकारी परनिले इरोनसाइड ने आज यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि गाजा पट्टी पर लगातार हो रहे हमलों का असर बच्चों के भावानात्मक तथा मानसिक विकास पर पड रहा है।
यूनीसेफ की अधिकारी ने कहा है कि जब मैं उनसे बात करती हूं तो मुझे लगता है कि बच्चे अपने परिजनों से ज्यादा बात नहीं कर रहे हैं। उन्हें रात में डरावने सपने आते हैं। बच्चे डर के कारण बिस्तर गीला कर रहे हैं, और यहां तक की अपने माता-पिता को अपने पास से जरा सी देर के लिए भी हटने नहीं देते।
इरोनसाइड ने कहा कि डरे सहमें बच्चों को लगता है कि वे सुरक्षित नहीं है। उनमें गहरे तक असुरक्षा की भवना भर गई है। कनाडा में जन्मी मानवाधिकार अधिवक्ता तथा गाजा में बच्चों के लिए एक वर्ष तक काम कर चुकी इरोनसाइड ने कहा कि ऊपर से जैसी स्थिति दिख रही है भीतर से यह कहीं अधिक भयानक है। गौरतलब है कि गाजा पर इजरायल की ओर से लगातार हो रहे हमलों में अब तक ढाई हजार से अधिक लोग मारे जा चुके हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.