kharif ki fasalखरीफ की फसल बोने की आस लेकर बैठे किसानों के लिए अच्छी खबर है। खरीफ की फसल की बोआई तेज होने वाली है। मानसून के आने की संभावना बढ़ गई है। अब मानसून अगले तीन चार दिन में ही दस्तक देने वाला है जिससे खरीफ की फसल के लिए उपयोगी माना जाता है।
अगले तीन चार दिन के दौरान मध्‍य प्रदेश और कर्नाटक में खरीफ की बुआई में जान पड़ने की की उम्‍मीद है। इन दोनों प्रदेशों में दौरान मानसून सक्रिय हो सकता है।महाराष्‍ट्र और यूपी में गन्‍ने की बुआई ठीक रही है। अगर मानसून कुछ सुधरता है तो मक्‍का, धान, गन्‍ना और सोयाबीन की उपज में नुकसान की थोड़ी भरपाई हो सकती है जिसका असर हाजिर और वायदा बाजारों में इनकी कीमतों पर भी दिखेगा। हालांकि अब तक इस सीजन के मानसून में देश में 72.7 मिमी बारिश हुई है जो कि सामान्य से 38 फीसदी कम है।
मध्य प्रदेश और कर्नाटक में शुरु होगी खरीफ की बुआई
कृषि मौसम विभाग ने मध्य प्रदेश में कर्नाटक खरीफ बुआई की तैयारी और बुआई शुरू करने की सलाह दी है। मध्य प्रदेश अब मक्का, सोयाबीन और ज्वार के लिए मौसम अच्‍छा होने वाला है। एग्रीमेट ने मध्यप्रदेश के बुंदेलखंड़ इलाके के किसानों को चावल की बुआई की सिफारिश की है। इधर कर्नाटक के पहाड़ी इलाकों के किसानों को चावल की बुआई की तैयारी शुरु हो सकती है। मक्का और कपास के लिए मौसम अनुकूल हुआ है।
उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में गन्ने की अच्छी बुआई
उत्तर प्रदेश और महाराष्ट्र में गन्ने की बुआई पिछले साल के मुकाबले ज्यादा हुई है। इसके अलावा बिहार, गुजरात, पंजाब और उत्तराखंड में रकबा बढ़ा है। वहीं कर्नाटक, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश में बुआई पिछड़ गई है। गुरुवार तक देश में किसानों ने 43.9 लाख हेक्टेयर में गन्ने की बुआई की है जो पिछले साल के मुकाबले 2.8 फीसदी कम है। पिछले साल 45.2 लाख हेक्टेयर में बुआई हुई थी।
मानसून अपडेट
मौसम एजेंसी स्काइमेट के मुताबिक अगले 2-6 घंटे में बंगाल और ओडिशा में बारिश की संभावना है। पश्चिम बंगाल के बांकुड़ा, वर्धमान, बीरभूम, पूर्वी मिदनापुर, नदिया, उत्तर 24 परगना, दक्षिण 24 परगना और पश्चिमी मिदनापुर जिलों में बारिश होने के आसार। ओडिशा के बालासोर, बालेश्वर, भद्रक, गजपति, गंजाम, मयूरभंज और रायगढ़ जिलों में बारिश हो सकती है।
मौसम विभाग के मुताबिक अगले दो दिनों तक मध्य भारत और आंध्र प्रदेश में गर्म हवाओं की लहर चलेगी। विदर्भ, मध्य महाराष्ट्र, मराठवाड़ा,ओडिशा और आंध्र प्रदेश के तटीय हिस्से प्रभावित होने की संभावना है। मंगलवार को आंध्र प्रदेश में अधिकतम तापमान 43.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
अबतक कितनी हुई बारिश
अब तक इस सीजन के मानसून में देश में 72.7 मिमी बारिश हुई है जो कि सामान्य से 38 फीसदी कम है। मौसम विभाग के मुताबिक 1 से 24 जून तक पश्चिम मध्य प्रदेश में नॉर्मल से 60 फीसदी कम बारिश हुई है और वहीं पूर्वी मध्य प्रदेश 10 फीसदी कम बारिश दर्ज हुई है। मौसम विभाग के मुताबिक उत्तरी कर्नाटक में 42 फीसदी कम बारिश हुई है वहीं दक्षिण कर्नाटक के अंदरूनी इलाकों में नॉर्मल से महज 3 फीसदी कम बारिश दर्ज हुई है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.