PM Narendra Modi at INS Vikramadityaअच्छे दिन आने वाले हैं मगर किसके। यह सवाल आज हर कोई एक दूसरे से पूछ रहा है। मनमोहन सरकार को कोसने वाले मोदी भी जनता का मन नहीं मोह पा रहे हैं। जुलाई से गैस महंगी होने जा रही है उसके लिए पहले से ही भूमिका बन गई है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी अब विकास की नयी उड़ान के लिए तैयार हैं। जनता के गुस्से का अंदाजा भी है उन्हें। तेल व डीजल महंगा करने के बाद अब महंगाई को पंख लगाने जा रहे हैं। वे सत्ता की काकपिट में तो बैठ गये हैं पर उन्हें पता है कि बेहतर उड़ान के लिए सख्त फैसलों की जरुरत होगी। उन्होंने देश के सबसे बडेÞ विमान वाहक युद्धपोत आइएनएस विक्रमादित्य को राष्ट्र को समर्पित किया। बाद में भाजपा कार्यकर्ताओं की बैठक की। मोदी ने कहा कि भारत को रक्षा साजो-सामान के निर्माण में आत्म निर्भर होने की आवश्यकता है। देश के आर्थिक स्वास्थ्य के लिए कड़वे फैसले करने पड़ सकते हैं। हो सकता है उन्हें जनता की नाराजगी का सामना भी करना पड़े। पीएम ने कहा कि वह जो भी फैसला लेंगे, देश हित में लेंगे। देश को आर्थिक बीमारी से बाहर निकालना है।
विशाल युद्धपोत पर मौजूद नौसैनिकों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, देश के लिए आज का दिन महत्वपूर्ण है। नौसेना के इतिहास में स्वर्णिम। मेरे लिए, यह गौरव और प्रसन्नता की बात है कि आइएनएस विक्रमादित्य नौसेना में शामिल हो गया है। उन्होंने कहा, हमें नवीनतम प्रौद्योगिकी को अत्यधिक महत्व देने की आवश्यकता है। हम रक्षा उपकरणों का आयात क्यों करते हैं? हमें आत्म निर्भर होना चाहिए। हम अपने रक्षा उपकरण दूसरे देशों को क्यों नहीं भेज सकते हैं?
प्रधानमंत्री ने देश के लिए प्राण न्यौछावर करने वालों की याद में युद्ध-स्मारक स्थापित करने का वायदा किया। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार रक्षा कर्मियों के लिए एक रैंक, एक पेंशन योजना को लागू करने को प्रतिबद्ध है। मोदी ने कहा, हमारी सरकार में दुनिया की आंख से आंख मिलाने की क्षमता है और इसका कारण है हमारे सैनिकों की क्षमता जो हमें ऐसा करने की शक्ति देती है। अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि भारत आंख नीचे करके नहीं बल्कि दुनिया की आंख से आंख मिला कर (बराबरी के आधार पर) आगे बढ़ना चाहता है। आने वाले समय में नौसेना को बड़ी शक्ति के रूप में उभर सकने में मदद देने के लिए प्रधानमंत्री ने देश भर में नौसेना एनसीसी नेटवर्क स्थापित करने को कहा जिससे समर्पित नौसैनिक तैयार हो सकें। इससे पहले सी किंग हैलिकाप्टर से 44,500 टन के आईएनएस विक्रमादित्य पर पहुंचने पर प्रधानमंत्री के सम्मान में नौसेना ने सलामी गारद दी और उन्हें इस युद्धपोत के बारे में जानकारी दी गई। वह विमान वाहक पर तैनात मिग 29 में भी बैठे। गोवा में भाजपा कार्यकर्ताओ को संबोधित करते हुए बजट से पहले अपने महत्वपूर्ण बयान में मोदी ने कहा, देश को आर्थिक बीमारी से बाहर निकालना है, इसके लिए मुझे कड़े फैसले करने होंगे और इन कड़े फैसलों के कारण लोगों में नाराजगी भी आ सकती है लेकिन मुझे उम्मीद है कि लोग मेरा साथ देंगे। मोदी ने कहा, हम मोदी और भाजपा का गुणगान करके देश का भला नहीं कर सकते। हमें वित्तीय हालात सुधारने के लिए कडेÞ फैसले करने की जरुरत है। इसके थोड़ी ही देर बाद मोदी ने सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर पर एक लघु संदेश में कहा, राष्ट्रीय हित में कडेÞ फैसलों का समय आ गया है। हम जो भी फैसला करेंगे, वे शुद्ध रूप से राष्ट्रीय हित को ध्यान में रखकर लिये जायेंगे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.