hockeyकड़े संघर्ष के बाद भारतीय टीम आखिरकार हॉकी वल्र्ड कप में पहला अंक जुटाने में सफल रही। बेल्जियम और इंग्लैंड के खिलाफ मिली हार से उबरते हुए भारतीय टीम ने गुरुवार को पूल ए मैच में स्पेन को 1.1 से ड्रॉ पर रोक दिया। भारतीय गोलकीपर पीआर श्रीजेश का प्रदर्शन प्रभावशाली रहा। उन्होंने कम से कम चार गोल बचाए।
भारतीय टीम ने इस विश्व कप में पहली बार बढ़त हासिल की। रुपिंदर सिंह ने 28वें मिनट में पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में तब्दील कर भारत का खाता खोला। लेकिन भारत की यह बढ़त ज्यादा देर तक बरकरार नहीं रह सकी। स्पेन ने 34वें मिनट में रॉक ओलिवा के गोल से बराबरी हासिल कर ली। पहले हाफ में दोनों टीमें 1.1 की बराबरी पर रहीं। दूसरे हाफ में दोनों छोर से गोलों का सूखा रहा। दोनों टीमों ने एक दूसरे पर जोरदार हमले किएए लेकिन कोई भी उसे गोल में तब्दील नहीं कर पाया। स्पेन की टीम के लिए भी यह मैच काफी महत्वपूर्ण था। क्योंकि बीते दो मैचों से उसे सिर्फ एक अंक मिल सका है। इंग्लैंड को उसने जहां 1.1 की बराबरी पर रोका थाए वहीं ऑस्ट्रेलिया के हाथों उसे 0.3 से हार मिली थी। भारत का अगला मैच शनिवार को मलेशिया से होगा।
गत विजेता ऑस्ट्रेलिया ने यूरोपीय कप के रजत पदक विजेता बेल्जियम को 3.1 से पराजित कर खुद को सेमीफाइनल की होड़ में बनाए रखा। लगातार तीसरी जीत से ऑस्ट्रेलिया के नौ अंक हो गए हैं और वह पूल श्एश् में शीर्ष पर है। एक अन्य मैच में इंग्लैंड ने मलेशिया को 2.0 से पराजित किया। इंग्लैंड की टीम सात अंक लेकर दूसरे स्थान पर है। तीन मैचों में दो मैच जीतने वाले बेल्जियम के छह अंक हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.