तमिलनाडु की मुख्यमंत्री modi-and-jaylalithaने अपनी चिरपरिचित शैली में एक सियासी दांव चल दिया है। गठबंधन में शामिल से इनकार कर अपने पत्ते नहीं खोले हैं। वह मोदी सरकार से अपनी मांगों को लेकर सौदेबाजी करना चाहती हैं। नवीन पटनायक पहले ही मोदी से मिलकर उड़ीसा को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग कर चुके हैं और जयललिता भी तमिलनाडु को लेकर पैकेज चाहती हैं।
एनडीए में शामिल होने की जारी चर्चाओं के बीच समय आने पर देखने की बात कह फिलहाल अपना विकल्प खुला रखने के संकेत दिए हैं। मंगलवार को पीएम नरेंद्र मोदी से हुई बहुप्रतीक्षित मुलाकात में जया ने राज्य की ओर से 64 पेज के ज्ञापन के जरिए मांगों की सूची पकड़ा दी। मुलाकात के बाद जयललिता ने एनडीए में तत्काल शामिल होने से इंकार करते हुए तमिलनाडु की मांग पर ध्यान देने की अपील की। उन्होंने कहा कि तीन बार मुख्यमंत्री रह चुके मोदी राज्य की समस्याओं को बेहतर ढंग से समझेंगे। भाजपा की कोशिश अन्नाद्रमुक को एनडीए में शामिल कर राज्यसभा में अपनी स्थिति मजबूत करने की थी। माना जा रहा था कि इस मुलाकात के दौरान मोदी उन्हें एनडीए में शामिल होने का न्यौता देंगे। मगर जयललिता ने अभी अपने पत्ते नहीं खोल भाजपा नेतृत्व को अपनी माहिर सियासत का संदेश दिया है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.