बसपा मुखिया मायावती ने बदायूं में दो किशोरियों से बलात्कार के बाद फांसी पर लटका कर मार डालने की घटना की सीबीआई जांच की मांग की है. साथ ही उन्होंने उत्तर प्रदेश में बिगडती कानून व्यवस्था के मद्देनजर राष्ट्रपति शासन लगाये जाने की मांग दोहरायी.
मायावती ने आज यहां संवाददाताओं से कहा केंद्र सरकार को बदायूं में पिछड़े वर्ग की शाक्य जाति की दो लड़कियों की बलात्कार के बाद हुई हत्या के मामले की सीबीआई जांच करानी चाहिए. उन्होंने आरोप लगाया कि लोकसभा चुनाव समाप्त होने के साथ ही उत्तर प्रदेश में आपराधिक घटनाओं की बाढ़ सी आ गयी है और जंगल राज कायम हो गया है.
उन्होंने कहा प्रदेश में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बहुत दयनीय है और ऐसे में राज्यपाल को प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश केंद्र से करनी चाहिए. मायावती ने प्रदेश में सत्तारुढ़ सपा पर व्यंग्य करते हुए कहा लोकसभा चुनाव में राजनीतिक लाभ के लिए सपा ने भाजपा के साथ सांठगांठ करके साम्प्रदायिक धु्रवीकरण की कोशिश की, मगर दाव उल्टा पड़ गया.
mayavatiउन्होंने कहा ,सपा मुखिया (मुलायम) और प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव विकास की जो बातें कर रहे हैं, उसे जनता कडवा मजाक मानती है. मायावती ने प्रदेश में व्याप्त बिजली संकट लिए अखिलेश सरकार को आड़े हाथों लेते हुए तंज कसा और कहा, बिजली को पैतृक गांव और जिले तथा परिवार के संसदीय क्षेत्रों तक सीमित कर दिया गया है. आम लोगों के लिए और बुरे दिन आने वाले हैं.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.