नई दिल्ली: इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षा जेईई-मेन का परिणाम मंगलवार की रात घोषित कर दिया गया, इसमें कुल 44 उम्मीदवारों ने 100 परसेंटाइल प्राप्त किये हैं. वहीं 18 उम्मीदवारों को शीर्ष रैंक मिला है. टॉप रैंक लाने वालों में आंध्र प्रदेश के चार, राजस्थान के तीन छात्र हैं. शिक्षा मंत्रालय के अधिकारियों ने मंगलवार की रात यह जानकारी दी. इस साल से संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई)-मेन साल में चार बार आयोजित की जा रही है ताकि छात्रों को अपने स्कोर में सुधार का मौका मिल सके.
पहला चरण फरवरी में और दूसरा मार्च में आयोजित किया गया था. अगले चरण की परीक्षाएं अप्रैल और मई में होनी थी, लेकिन देश में कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर को देखते हुए उन्हें स्थगित कर दिया गया था. तीसरा चरण 20-25 जुलाई तक आयोजित किया गया था जबकि चौथा चरण 26 अगस्त से दो सितंबर तक आयोजित किया गया था.
फर्स्ट रैंक लाने वाले 18 विद्यार्थियों में तीन राजस्थान से
देश की सबसे बड़ी इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई मेन 2021 के चौथे चरण का परिणाम का इंतजार लाखों विद्यार्थी और उनके पेरेंट्स कर रहे थे.18 विद्यार्थियों की लिस्ट जारी की गई है जो कि पहली रैंक लेकर आए हैं. इनमें से कोटा से कोचिंग कर रहे 2 विद्यार्थी सिद्धांत मुखर्जी और अंशुल वर्मा भी शामिल है, जो कि जेईईमेन के दूसरे और तीसरे सेशन में टॉप कर चुके है. इसके साथ ही जयपुर के मृदुल अग्रवाल भी इस सूची में शामिल हैं. तीनों विद्यार्थियों ने 100 परसेंटाइल के साथ-साथ 300 में से 300 अंक प्राप्त किए थे. इस सूची में शामिल मुंबई निवासी सिद्धांत मुखर्जी भी है जो कि कोटा के निजी कोचिंग संस्थान से कोचिंग कर रहे थे. वही, फरवरी 2021 के जेईई मेन के सेशन में 300 में से 300 अंक लेकर आए थे.
सिद्धांत मुखर्जी जेईई एडवांस की तैयारी में जुटे हुए हैं साथ ही उनका कहना है कि उनका फोकस मुंबई आईआईटी की कंप्यूटर साइंस ट्रांसफर है. हालांकि सिद्धांत मुखर्जी को केंद्रीय और इंपीरियल कॉलेज से स्टडी का ऑफर पहले ही मिला हुआ है. इसके अलावा छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के निवासी अंशुल वर्मा भी जेईई मेन जुलाई महीने में आयोजित तीसरे सेशन की परीक्षा में 300 में से 300 अंक लेकर आए थे. यह भी कोटा से ही कोचिंग कर रहे थे. अंशुल वर्मा जेईई मेन के पहले और दूसरे सेशन की परफॉर्मेंस से संतुष्ट नहीं थे, इसलिए वो तीसरे अटेम्प्ट में उन्होंने भाग लिया था. उन्होंने 100 परसेंटाइल इस परीक्षा में प्राप्त किए हैं.
अंशुल कोटा के निजी कोचिंग इंस्टीट्यूट के रेगुलर क्लासरूम स्टूडेंट हैं. हालांकि, उन्होंने ज्यादातर स्टडी ऑनलाइन ही की थी. वर्मा के जेईई मेन फरवरी में 99.95 और मार्च में 99.93 पर्सेन्टाइल स्कोर थे. वहीं, जयपुर के मृदुल अग्रवाल ने जेईई मेन मार्च में 300 में से 300 अंक प्राप्त किए थे. मृदुल ने फरवरी जेईई मेन के बाद मार्च में भी 100 पर्सेन्टाइल प्राप्त किया था, फरवरी में परफेक्ट स्कोर करने से बचे मृदुल ने मार्च परीक्षा में पूरे में से पूरे अंक भी प्राप्त किए थे.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.