लोकसभा चुनाव के लिये मतदान समाप्त होते ही तेल कंपनियों ने डीजल के दाम आज मध्यरात्रि से 1.09 रुपये प्रति लीटर बढा दिये. डीजल के दाम में हर महीने की जाने वाली वृद्धि 16वीं लोकसभा के लिये मतदान शुरु होने से कुछ पहले रोक दी गई थी लेकिन आज अंतिम चरण का मतदान पूरा होने के साथ ही इसपर फिर से अमल शुरु कर दिया गया.
सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों ने आज मध्यरात्रि से डीजल के दाम 1.09 रुपये प्रति लीटर बढाने की घोषणा कर दी. इस वृद्धि में अलग अलग राज्यों में लगने वाला मूल्यवर्धित कर (वैट) शामिल नहीं है. इसलिये कुल वृद्धि राज्यों में अलग अलग होगी.
दिल्ली में डीजल के दाम वैट सहित 1.22 रुपये बढकर 56.71 रुपये लीटर हो जायेंगे. मुंबई में यह 65.21 रुपये हो जायेंगे. रांची में डीजल की कीमत सोमवार आधी रात से 1.29 रुपये लीटर (वैट व टैक्स सहित) महंगी हो गयी. सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों को डीजल के दाम में इस वृद्धि के बाद भी 5.71 रुपये प्रति लीटर का नुकसान होगा. हालांकि, पेट्रोल के दाम में कोई वृद्धि नहीं की गई है. पेट्रोल पर तेल कंपनियों को 50 पैसे लीटर का नुकसान हो रहा है.
केंद्रीय मंत्रिमंडल ने इससे पहले जनवरी 2013 में एक निर्णय के तहत तेल कंपनियों को हर महीने डीजल के दाम में 40 से 50 पैसे की हल्की वृद्धि करते रहने की अनुमति दी थी. यह वृद्धि तब तक की जानी थी जब तक कि डीजल पर होने वाला उनका नुकसान समाप्त नहीं हो जाता.petrol तेल कंपनियों ने एक अप्रैल और एक मई 2014 में यह वृद्धि नहीं की. चुनाव के दौरान इस तरह के निर्णय लेने से परहेज किया गया पर आज उसकी कोर कसर पूरी कर दी. इससे पहले 14 बार में तेल कंपनियों ने डीलज का भाव में कुल 8.33 रुपये लीटर की वृद्धि की थी.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.