एमपी एमएलए कोर्ट ने 6 साल पुराने एक मामले में रीता बहुगुणा जोशी, राज बब्बर समेत 9 आरोपियों पर आरोप तय कर दिए हैं. अदालत ने 20 अगस्त को गवाहों को गवाही के लिए बुलाया है. ये मामला लक्ष्मण मैदान में प्रदर्शन के दौरान पुलिस पर हमले और तोड़फोड़ से जुड़ा है. बता दें कि इससे पहले विशेष अदालत ने बीजेपी नेता रीता बहुगुणा जोशी के खिलाफ मुकदमा वापस लेने की मांग वाली यूपी सरकार की याचिका को खारिज कर दिया था.
गौरलतब है कि साल 2015 में एक विरोध प्रदर्शन के दौरान रीता बहुगुणा जोशी के खिलाफ पुलिसकर्मियों पर हमला करने और संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के मामले में मुकदमा दर्ज किया गया था. विशेष अदालत ने इस मामले को गंभीर माना था. जोशी के अलावा, इस मामले के 17 अन्य आरोपियों में राज बब्बर, प्रदीप जैन, अजय राय, निर्मल खत्री, राजेश पति त्रिपाठी और मधुसूदन मिस्त्री जैसे राज्य कांग्रेस नेता शामिल हैं.
6 साल पहले हुई थी एफआईआर
सब इंस्पेक्टर प्यारेलाल ने आरोपियों के खिलाफ 17 अगस्त, 2015 को हजरतगंज पुलिस में एक प्राथमिकी दर्ज की थी. आरोप लगाया गया था कि लक्ष्मण मेला मैदान से विधानसभा की ओर जाते समय भीड़ ने पुलिस बल पर पथराव और तोड़फोड़ की थी. भीड़ में करीब 5 हजार लोग शामिल थे. पुलिस की ओर से इन्हें समझाने की भी कोशिश की गई, लेकिन ये नहीं माने. आरोप है कि इस हमले में वरिष्ठ पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी घायल हो गए थे.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.